Maharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र की राजनीति में भूचाल आ गया है। शिवसेना के विधायक बागी हो गए हैं। ऐसे में उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री पद पर ज्यादा दिनों तक नहीं रहेंगे। उन्होंने बुधवार को सीएम आवास भी छोड़ दिया। ऐसे में महाविकास अघाड़ी गठबंधन का अंत निकट है। वहीं शिवसेना नेता संजय राउत ने गठबंधन को लेकर बयान दिया है। कहा कि अगर बागी विधायक 24 घंटे के अंदर मुंबई लौटते हैं, तो पार्टी महाविकास अघाड़ी से बाहर आएगी।

संजय राउत ने कहा

उन्होंने कहा कि विधायकों को गुवाहाटी से बातचीत नहीं करना चाहिए। वे मुंबई वापस आएं और मुख्यमंत्री से इसपर चर्चा करें। हम सभी विधायकों की इच्छा होने पर महाविकास अघाड़ी से बाहर निकलने पर विचार करने को तैयार है। इसके लिए उन्हें यहां आना होगा और उद्धव ठाकरे से इस पर चर्चा करनी होगी। इससे पहले राउत ने 21 विधायकों से संपर्क का दावा किया था।

उद्धव को मिला एनसीपी नेताओं का साथ

एनसीपी नेता जयंत पाटिल ने कहा कि हम अंत तक मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे जी के साथ खड़े रहेंगे। हम सरकार को बचाने की पूरी कोशिश करेंगे। इधर एनसीपी नेता छगन भुजबल ने कहा, 'हम शरद पवार की नेतृत्व वाली महाविकास अघाड़ी में हैं। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ हैं। अगर हम सत्ता में नहीं है, तो हम विपक्ष में रहते हुए लड़ना जानते हैं।'

खड़गे ने साधा भाजपा पर निशाना

राज्य सभा में प्रतिपक्ष नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि महाविकास अघाड़ी एक मजबूत सरकार है। उसको अस्थिर करने के लिए भाजपा हर कोशिश कर रही है। ये सारी चीजें एक दिन में नहीं होती। बीजेपी चाहती है कि देश में नॉन भाजपा कोई भी सरकार अस्तित्व में न रहे। खड़गे ने कहा, महाराष्ट्र में अपनी सरकार बनाने के लिए स्थिर सरकार को अस्थिर करने के लिए भाजपा और केंद्र पूरी तरह से जिम्मेदार हैं। वे राष्ट्रपति चुनाव के लिए ऐसा कर रहे हैं।

बागी विधायकों को बंगाल भेज दीजिए

इधर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने महाराष्ट्र की राजनीतिक स्थिति पर बयान दिया। कहा कि हम उद्धव ठाकरे और सभी के लिए न्याय चाहते हैं। आज भाजपा सत्ता में हैं। पैसे, बाहुबल, माफिया ताकत का इस्तेमाल कर रहे हैं, लेकिन एक दिन तुम्हें जाना ही है। कोई आपकी पार्टी भी तोड़ सकता है। बनर्जी ने कहा, असम की जगह उन्हें (बागी विधायक) बंगाल भेज दीजिए, हम उन्हें अच्छा आतिथ्य देंगे। महाराष्ट्र के बाद वे दूसरी सरकारों को भी गिरा देंगे।

Posted By: Navodit Saktawat

  • Font Size
  • Close