Maharashtra Politics । महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री की कुर्सी खो चुके उद्धव ठाकरे अब मौजूदा मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे पर धोखेबाजी का आरोप लगाने के बाद व्यक्तिगत आरोप भी लगाने लगे हैं। अपनी सीएम पद की कुर्सी खोने के बाद पार्टी बचाने में जुटे लगे उद्धव ठाकरे ने बीते दिनों CM एकनाथ शिंदे को ऑटो वाला बताते हुए कहा था कि उनके ऑटो का ब्रेक फेल हो गया था। लेकिन अब CM एकनाथ शिंदे ने भी उद्धव ठाकरे को उन्हीं के अंदाज में जवाब दिया है। समाचार एजेंसी ANI के साथ इंटरव्यू में जब उनसे पूछा गया कि उद्धव ठाकरे ने कहा है कि आज तीन पहिए वाले ड्राइवर को सरकार चलाने को दे दी गई है तो इसके जवाब में CM एकनाथ शिंदे ने कहा कि उस रिक्शा ने आपकी मर्सिडीज को पीछे छोड़ दिया क्योंकि ये सरकार सर्वसामान्य लोगों के लिए सरकार है, ये समाज के हर घटक को न्याय दिलाने वाली सरकार है।

50 विधायक हिंदुत्व के लिए साथ आए

इंटरव्यू में मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने कहा कि बालासाहेब ठाकरे का हिन्दुत्व का जो मुद्दा है, हिन्दुत्व के जो विचार हैं, उनकी जो भूमिका है, उसे आगे ले जाने का फैसला हम सभी ने मिलकर किया। हमारे लगभग 50 विधायक अगर एक साथ ऐसी भूमिका लेते हैं तो इसका कोई बड़ा कारण रहा होगा। उद्धव ठाकरे को इस बात पर विचार करने की आवश्यकता थी।

महाराष्ट्र के CM एकनाथ शिंदे ने आगे कहा कि शिवसेना-भाजपा ने एक साथ चुनाव लड़ा था और लेकिन सरकार कांग्रेस-NCP के साथ बन गई। इस कारण जब भी हिंदुत्व के मुद्दे आए, दाऊद का मुद्दा आया, मुंबई बम ब्लास्ट का मुद्दा हो या कोई अन्य मुद्दे, हम कोई भी निर्णय नहीं ले पा रहे थे।

शिंदे ने आगे कहा कि जनता को लगा था कि भाजपा सत्ता के लिए कुछ भी करती है लेकिन उन्होंने सभी देशवासियों को बता दिया है कि इन 50 लोगों ने एक हिन्दुत्व की भूमिका ली है, इनका एजेंडा हिन्दुत्व का है, विकास का है, इनका समर्थन करना चाहिए। ऐसे में भाजपा ने हमें समर्थन दे दिया।

मैंने कई बार मुद्दे सुलझाने की कोशिश की

CM एकनाथ शिंदे ने कहा कि मैंने कई बार चर्चा की कि महाविकास अघाडी में जो हम बैठे हैं इससे हमें फायदा नहीं हैं, नुकसान है। हमारे विधायक इस चिंता में है कि कल चुनाव कैसे लड़ पाएंगे। नगर पंचायत चुनाव में हम 4 नंबर पर गए। मतलब सरकार का फायदा शिवसेना को नहीं हो रहा था।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने देवेंद्र फडणवीस को लेकर कहा कि वह काफी बड़े दिल के हैं और दिल से उपमुख्यमंत्री बन गए। लेकिन जब पार्टी का आदेश आता है तो पार्टी का आदेश मानते हैं वो और मेरे जैसे बाला साहेब के कार्यकर्ता को मुख्यमंत्री पद पर बैठा दिया। मैं PM मोदी का, केंद्रीय गृह मंत्री और भाजपा अध्यक्ष को धन्यवाद करता हूं। उन्होंने कहा कि जब हम चुनाव में जीतते हैं तो हमारे चुनाव क्षेत्र के मतदाताओं की विकास को लेकर अपेक्षा होती है। लेकिन हमारे विधायक काम नहीं कर पा रहे थे, फंड की कमी थी। हमने इस बारे में हमारे वरिष्ठ से बात कि लेकिन हमें कामयाबी नहीं मिली, इस कारण से हमारे 40-50 विधायकों ने ये कदम उठाया।

शिंदे बोले, हमने कोई भी गैरकानूनी कदम नहीं उठाया

मुख्यमंत्री ने कहा कि हम लोग कोई भी गैरकानूनी काम नहीं कर रहे। लोकशाही में कानून है, नियम हैं, उसी के मुताबिक ही काम करना पड़ता है। आज हमारे पास बहुमत है। सुप्रीम कोर्ट में भी हमारे खिलाफ जो लोग गए थे, उन्हें भी कोर्ट ने डांट लगाई है।

Posted By: Sandeep Chourey

  • Font Size
  • Close