गोरखपुर। गोरखपुर के खोराबार थाना क्षेत्र में अजीबोगरीब मामला सामने आया है। मामला ऐसा कि पुलिस भी परेशान है। पंचायत में 71 भेड़ों के बदले एक महिला को उसके प्रेमी के हवाले कर दिया गया। अब पंचायत के इस फैसले को प्रेमी के पिता रामनरेश ने मानने से इन्कार कर दिया है और खोराबार थाने में तहरीर देकर भेड़ें वापस दिलाने की मांग की है।

यह मामला हल होने की जगह तीन थानों में घूमता रहा। खोराबार पुलिस ने पिपराइच क्षेत्र का मामला बताकर पिपराइच थाने भेज दिया। पिपराइच थानाध्यक्ष ने भी रामनरेश की फरियाद नहीं सुनी और पंचायत बेलीपार क्षेत्र के ग्राम चारपानी में होना बताकर बेलीपार भेज दिया। आखिर में पिपराइच क्षेत्र के ग्राम बैलो निवासी रामनरेश ने शनिवार को संपूर्ण समाधान दिवस में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक से न्याय की गुहार लगाई।

उन्होंने कहा कि पंचायत का फैसला हमें मान्य नहीं है। उन्होंने आरोप लगाया कि पंचों ने एक व्यक्ति का बसा-बसाया घर उजाड़ दिया और बिना तलाक कराए विवाहित महिला को मेरे बेटे के गले में बांधने का फैसला सुना दिया।

उधर, पंचायत के फैसले के बाद महिला अब अपने पति के साथ रहने को तैयार नहीं है। उसका कहना है कि किसी ने उसके साथ जबरदस्ती की तो आत्महत्या कर लेगी। बकौल महिला उसकी शादी के पांच वर्ष हो गए पर मां बनने का सुख प्राप्त नहीं हुआ।

उधर, प्रेमी का कहना है कि पिता की संपत्ति में पुत्र का भी हक होता है। हमने 142 में से 50 फीसद भेड़ों को अपना माना और पंचायत के फैसले के अनुसार 71 भेड़ महिला (प्रेमिका) के पति को दे दी। पिता रामनरेश विरोधियों के उकसाने पर हमारे खिलाफ खड़े हो गए हैं। पुलिस ने उसकी शिकायत के आधार पर महिला के पति के खिलाफ चोरी का केस दर्ज हो गया है। ऐसे में उसके हाथ ना पत्नी लगी ने भेड़ें।

जांच शुरू होते ही पंच परमेश्वर भूमिगत

भेड़ों के बदले महिला को सौंपने के मामले की जांच शुरू होते ही पंच परमेश्वर भूमिगत हो गए हैं और पुलिस के हाथ आने से बचने के लिए रिश्तेदारों व मित्रों के घर शरण ले लिए हैं। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ. सुनील कुमार गुप्ता के अनुसार, भेड़ों को दिलाने के लिए बेलीपार थाना क्षेत्र में पंचायत हुई थी, इसलिए कार्रवाई भी वहीं से होगी। बेलीपार थानेदार को रामनरेश की भेड़ें वापस दिलाने का निर्देश दिया गया है। विवाहित महिला के प्रेमी के साथ जाने की जांच पिपराइच पुलिस कर रही है।