अयोध्या। रामजन्मभूमि विवाद के सौहार्दपूर्ण समाधान की कोशिशें परवान चढ़ने लगी हैं। बातचीत से इस मुद्दे को हल करने की कोशिश के तहत सोमवार को बाबरी मस्जिद के मुद्दई हाशिम अंसारी से मुलाकात के बाद अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष महंत ज्ञानदास ने मंगलवार को हिंदू महासभा के अध्यक्ष स्वामी चक्रपाणि से दूरभाष पर बातचीत की।

स्वामी चक्रपाणि ने न केवल इस पहल का समर्थन किया बल्कि प्रधानमंत्री से वार्तालाप के लिए समय लेने का भी आश्वासन दिया। महंत ज्ञानदास ने बताया कि प्रमुख पक्षकार निर्मोही अखाड़ा से भी समाधान की दिशा में सकारात्मक संकेत मिले हैं। निर्मोही अखाड़ा के पंच पुजारी रामदास ने ऐसी कोशिश का स्वागत किया। हालांकि उन्होंने हाशिम अंसारी की प्रमाणिकता पर सवाल भी उठाया। कहा कि हाशिम बुजुर्ग हो गए हैं और अपनी बात पर अडिग नहीं रह पाते।

बाबरी मस्जिद के एक अन्य मुद्दई हाजी महबूब ने कहा कि हम मंदिर के खिलाफ नहीं हैं। बातचीत से इस मसले के समाधान में कोई बुराई नहीं है। हालांकि उन्होंने हाशिम और ज्ञानदास के प्रयासों की खिल्ली भी उड़ाई। कहा कि इतने बड़े मुद्दे को इतने हल्के में हल करना संभव नहीं है। फिलहाल मामला अदालत में है और निर्णय की प्रतीक्षा करनी चाहिए। अयोध्या मुस्लिम वेलफेयर सोसाइटी के अध्यक्ष सादिक अली बाबू भाई ने कहा कि हम सुलह की हर कोशिश में साथ हैं।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020