प्रेम नारायण द्विवेदी, गोरखपुर। रेलवे स्टेशन पहुंचते ही कानों में पड़ने वाली सुरीली आवाज...'यात्री कृपया ध्यान दें...' किसे याद नहीं भला। लेकिन यह आवाज अब नहीं सुनाई देगी। दरअसल, रेलवे 1991 से चले आ रहे अपने इस ट्रेन मैनेजमेंट सिस्टम (टीएमएस) को अपग्रेड करने जा रहा है। अब तक जिस महिला का आवाज सुनाई देती थीं, वो थीं सरला चौधरी। जिसे बदलकर रेलवे ने इस काम के लिए प्रसिद्ध उद्घोषक हरीश भिमानी की सेवाएं लेने का फैसला किया है। पढ़िए पूरी खबर और जानिए कौन हैं हरीश भिमानी -

क्या है ट्रेन मैनेजमेंट सिस्टम : नए टीएमएस यानी ट्रेन मैनेजमेंट सिस्टम के तहत स्टेशन परिसर में अति आधुनिक घोषणा के उपकरण और डिस्प्ले बोर्ड लग रहे हैं। नए सिस्टम को लगाने की जिम्मेदारी बेंगलुरु की प्रायवेट संस्था को दी गई है। पहले चरण में कुछ प्रमुख स्टेशनों पर नया सिस्टम लगाया जाएगा। गोरखपुर और लखनऊ में यह सिस्टम कार्य करने लगा है। वाराणसी में प्रक्रिया चल रही है। आगरा, मथुरा, जयपुर और जोधपुर आदि स्टेशनों पर भी हरीश भिमानी की दमदार आवाज गूंजने लगी है। छोटे स्टेशनों पर पुरानी आवाज ही मिलेगी। दूसरे चरण में छोटे स्टेशनों को भी नए सिस्टम से जोड़ दिया जाएगा।

कौन हैं हरीश भिमानी: ये वही हरीश हैं जिन्होंने लोकप्रिय टीवी धारावाहिक महाभारत में अपनी आवाज दी थी। मैं समय हूं... कहने का उनका वह अंदाज आज भी लोगों को याद है। गोरखपुर में सिस्टम लगा रहे संस्था के सुपरवाइजर इमरान के अनुसार, महाभारत फेम हरीश भिमानी की आवाज रिकॉर्ड की गई है।

1991 में हुई थी शुरुआत: 1991 तक रेलकर्मी ही अपनी आवाज में ट्रेनों आदि की जानकारी देते थे। इसी साल यात्रीगण कृपया ध्यान दें... की नींव पड़ी। रेलवे की कर्मचारी सरला चौधरी की मधुर आवाज में ट्रेनों की आवाजाही की जानकारी दी जाने लगी। सेंट्रल रेलवे में उनकी तैनाती 1982 में एक उद्घोषक के रूप में हुई थी। 1986 में उन्हें स्थाई कर दिया गया। वह आल इंडिया रेडियो से भी जुड़ी थीं। पिछले वर्ष तक वह मुंबई स्थित कल्याण स्टेशन पर कार्यालय अधीक्षक रहीं।