नई दिल्ली। भारत अंतरिक्ष महाशक्ति बन गया है। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) का "बाहुबली" रॉकेट GSLV Mk-III अपने साथ चंद्रयान-2 को लेकर उड़ान भर चुका है। अब यह 48 दिन बाद चंद्रमा पर पहुंचेगा। इसके साथ ही भारत का नाम अमेरिका, रूस और चीन के साथ लिया जाएगा, जिन्होंने चांद पर अपने सैटेलाइट उतारने में कायमाबी हासिल की है।

भारत की यह कामयाबी दुनिया के उन लोगों के मुंह पर करारा तमाचा है, जो कहते हैं कि भारत कुछ नहीं कर सकता। यहां हम एक कार्टून की कहानी बताएंगे, जिसमें भारत का अपमान किया गया था। मिशन शक्ति की कामयाबी ने उस कार्टून बनाने वाले और छापने वाले को भी जवाब मिल गया है।

बात 2014 की है। 28 सितंबर को ख्यात न्यूयॉर्क टाइम्स में एक कार्टून छपा था। कार्टून में भारत के मार्स मिशन पर कटाक्ष किया गया था। बताया गया कि किस तरह एलिट स्पेस क्लब वाले देश एक कमरे में बैठे है। एक भारतीय बाहर खड़ा दरवाजा खटखटा रहा है। भारतीय कोई ग्रामीण है, जिसके साथ अपनी गाय या भैंस भी है।

कार्टून सिंगापुर के हेंग किम सोंग ने बनाया था। कार्टून छपते ही बवाल हो गया। दुनियाभर के भारतीयों ने इसका विरोध किया और आखिरकार न्यूयॉर्क टाइम्स को माफी मांगने के लिए मजबूर होना पड़ा। अब भारत वाकई उस एलिट ग्रुप में शामिल हो गया है, जो उस कार्टून में कमरे के अंदर बैठे थे।

पढ़िए चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग से जुड़ी जरूरी खबरें

Chandrayaan-2 के बाद अब इसरो के निशाने पर सूरज, मिशन का नाम होगा Aditya L1

Chandrayan-2: चंद्रयान-2 की सफल प्रक्षेपण पर नासा ने इसरो को दी बधाई

Chandrayaan 2: भविष्य में धूमकेतु पर भी लैंडर उतार सकेगा भारत

Posted By: Arvind Dubey

Assembly elections 2021
elections 2022
  • Font Size
  • Close