देश में 25 मार्च से लॉकडाउन किया गया है जो अभी भी जारी है। इस बीच अलग-अलग राज्यों से प्रवासी मजदूरों का अपने घरों में पहुंचने का सिलसिला जारी है। सबसे ज्यादा प्रवासी मजदूर उत्तर प्रदेश और बिहार के लिए लौट रहे हैं। इसके अलावा महाराष्ट्र से बड़ी संख्या में मजदूरों ने अपने घरों के लिए पलायन किया है। प्रवासी मजदूरों को हो रही परेशानी के मद्देनजर जहां केंद्र सरकार ने लॉकडाउन के बीच उन्हें घर पहुंचाने के लिए राहत दी है, वहीं दूसरी ओर प्रवासी मजदूरों के महाराष्ट्र में वापस लौटने को लेकर राजनीति भी शुरू हो गई है। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ द्वारा मजदूरों को लेकर दिए गए बयान के बाद महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष राज ठाकरे ने पलटवार किया है।

राज ठाकरे ने दिया ये बयान

मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने कहा कि सीएम योगी आदित्यनाथ यह बात ध्यान रखें कि प्रवासियों को अब महाराष्ट्र में आने से पहले यहां की सरकार से इजाजत लेनी चाहिए। इसके साथ ही राज ठाकरे ने सीएम उद्धव ठाकरे से अपील की है कि महाराष्ट्र सरकार को पुलिस स्टेशन में प्रवासी मजदूरों को रिकॉर्ड बनाना चाहिए। इसमें उनकी तस्वीर भी होना चाहिए।

महाराष्ट्र सरकार को पत्र लिखते हुए राज ठाकरे ने कहा कि 'योगी आदित्यनाथ अगर इस बात पर जोर दे रहे हैं कि यूपी के लोगों को काम देने के लिए अनुमति लेनी होगी तो मजदूरों को भी महाराष्ट्र में काम करने के लिए सरकार से अनुमति लेनी होगी। महाराष्ट्र सरकार को इस तरह की बातों को गंभीरता से लेना चाहिए।'

सीएम योगी ने दिया था ये बयान

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि अगर दूसरे राज्य चाहते हैं कि यहां के श्रमिक उनके क्षेत्र में काम करें तो उन्हें पहले इसके लिए प्रदेश सरकार से अनुमति लेनी होगी। सीएम योगी ने दुख जताया था कि लॉकडाउन के दौरान कई राज्यों ने प्रवासी मजदूरों का ध्यान नहीं रखा।

Posted By: Neeraj Vyas

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना