ममल्लापुरम। दो दिन के भारत दौरे पर आए चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फिर से मिले हैं। चीनी राष्ट्रपति के स्वागत में पूरा कोवालम सजा हुआ था और पारंपरिक नृत्यों और सजावट के साथ कलाकार अपना प्रदर्शन कर रहे थे। मोदी और जिनपिंग के बीच यह मुलाकात कोवालम में स्थित फिशरमेन रसॉर्ट में हुई। इसके बाद एक डेलिकेशन स्तर की बाचचीत भी हुई। अगर आगाज पर जाएं तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच शनिवार को होने वाली दूसरी अनौपचारिक वार्ता के नतीजे दोनों देशों के रिश्तों के लिहाज से शुभ रहने के संकेत हैं। पढ़ें इससे जुड़ी अपडेट्स:-

- चीनी राष्ट्रपति के साथ दो दिन की अनौपचारिक मुलाकात के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी दिल्ली रवाना हो गए हैं।

- अपनी दो दिन की यात्रा पूरी करते हुए चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग दोपहर 1.40 बजे नेपाल के लिए रवाना हो गए।

- बैठक के बाद प्रधानमंत्री मोदी और चीनी राष्ट्रपति ने होटल में लगी हैंडीक्राफ्ट प्रदर्शनी देखी जिसमें उन्होंने चीनी राष्ट्रपति को सिल्क की शॉल गिफ्ट की जिसमें शी जिनपिंग का चेहरा उकेरा हुआ था।

- प्रधानमंत्री ने इस दौरान कहा कि दोनों देशों के बीच कोई मतभेद होता है तो उसे विवाद नहीं बनने देंगे।

- प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि वुहान की मुलाकात ने दोनों देशों के रिश्तों में नया भरोसा और मोमेंटम दिया है। इसी तरह आज का चेन्नई विजन दोनों देशों के रिश्तों में एक नई शुरुआत है।

- इसके जवाब में चीनी राष्ट्रपति जिनपिंग ने कहा कि जैसा आप कह रहे थे आपके और मेरे बीच द्विपक्षीय रिश्तों पर दोस्तों की तरह बातचीत हुई है। हम आपके स्वागत से अभिभूत हैं। यह हमारे लिए एक यादगार अनुभव रहेगा।

- प्रधानमंत्री ने कहा कि वुहान में पहली अनौपचारिक बैठक से दोनों देशों के रिश्तों में स्थायीत्व की ताजा शुरुआत थी। दोनों देशों के बीच रणनीतिक संचार भी बढ़ा है।

- बैठक की शुरुआत करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि तमिलनाडु में भारत और चीन के बीच व्यापारिक संबध गहरे हैं। पिछले 2000 सालों में ज्यादातर समय भारत और चीन आर्थिक शक्तियां रही हैं।

- इस बातचीत में प्रधानमंत्री मोदी के अलावा विदेश मंत्री एस जयशंकर, एनएसए अजीत डोभाल व अन्य शामिल हैं।

- प्रधानमंत्री मोदी और चीनी राष्ट्रपति के बीच मुलाकात के बाद अब दोनों देशों के बीच प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता हो रही है।

- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और शी जिनपिंग के बीच 2 घंटे से ज्यदा समय तक अकेले में बातचीत हुई।

- प्रधानमंत्री मोदी और चीनी राष्ट्रपति कोवालम में स्थित फिशरमेंस रिसॉर्ट में हैं और आपसी बाचतीत में व्यस्त हैं।

- चीनी राष्ट्रपति अपने कारवां के साथ कोवालम पहुंचे जहां उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी के साथ गोल्फ कार्ट की सवारी की।

- चीनी राष्ट्रपति के स्वागत के लिए पूरा कोवालम उमड़ पड़ा है। लोग हाथों में तख्तियां लेकर सड़कों पर स्वागत में चीनी राष्ट्रपति का इंतजार कर रहे हैं।

आज की आधिकारिक वार्ता का दायरा ज्यादा बड़ा

पीएम मोदी और जिनपिंग के बीच आज की मुलाकात पर सबकी नजर है। आज की बातचीत के विषय वहीं हैं जो दोनों देशों के आपसी हितों को सबसे ज्यादा प्रभावित करते हैं। इसके अलावा दोनों नेता जो चाहें उन मुद्दों को उठा सकते हैं।

ये हैं प्रमुख मुद्दे

-4000 किलोमीटर लंबी अंतरराष्ट्रीय सीमा से जुड़े मुद्दों का स्थायी समाधान निकालना।

-कारोबारी रिश्तों में समस्या पैदा करने वाले मुद्दों को हल करना।

-दोनों देशों की जनता के बीच बेहतर ताल्लुक के कदम उठाना।

-सेनाओं के बीच विश्वास बहाली के लिए कदम उठाना आदि

कश्मीर पर भारत का पक्ष खुद रखेंगे मोदी

बातचीत में कश्मीर का मुद्दा भी उठ सकता है और भारतीय पक्ष मानता है कि उसे अपनी बात रखने में कोई भी दिक्कत नहीं है। मोदी स्वयं जिनपिंग को कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने की पूरी कहानी बताना चाहेंगे। सनद रहे कि मोदी और जिनपिंग की यह बातचीत तब हो रही है जब दोनों देशों के बीच कश्मीर मुद्दे पर तल्खी बढ़ गई है। तीन दिन पहले ही पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने बीजिंग में जिनपिंग से मुलाकात की थी। तब जिनपिंग ने कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान के पक्ष का समर्थन किया था। इस पर भारत ने बेहद कड़ी प्रतिक्रिया जताई थी।

Posted By: Ajay Barve

fantasy cricket
fantasy cricket