Monsoon Alert: मानसून ने आखिरकार केरल में दस्तक दे ही दी है। मौसम विभाग IMD ने इसकी पुष्टि करते हुए यहां तक कहा है कि इस बार मानसून की बारिश अच्छी होगी। वहीं दूसरी तरफ देश के कई राज्यों मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, दिल्ली-एनसीआर के अलावा अन्य राज्यों में भी प्री-मानसून एक्टिविटीज शुरू हो गई हैं। सोमवार को कई राज्यों में हुई बारिश से महौल में ठंडक घोल दी है और आने वाले दिनों में यह राहत जारी रह सकती है। मौसम में इस बदलाव का असर अब दिखने लगा है और वाले दिनों में तेजी से आगे बढ़ता मानसून अन्य राज्यों में भी दस्तक देगा।

चक्रवात का भी असर

मानसून के साथ ही दूसरी तरफ चक्रवात का भी असर नजर आने वाला है। गुजरात के तट से दूर अरब सागर में कम दबाव का क्षेत्र बना है जो चक्रवाती तूफान का रूप ले रहा है। इसको देखते हुए मौसम विभाग ने चार जून को महाराष्ट्र और गुजरात के तटवर्ती क्षेत्रों में भारी बारिश को लेकर रेड अलर्ट जारी किया है। इसका असर अन्य राज्यों में भी नजर आ सकता है।

जानिए कब पहुंचेगा आपके राज्य में मानसून

मानसून आगे बढ़ रहा है और तेजी से अन्य राज्यों में दस्तक देने की तैयारी में है। सबकुछ ठीक रहा तो अगले 10 दिनों में यह आगे बढ़ते हुए उत्तर भारत की सीमाओं को छूने की तैयारी में है। मौसम विभाग के अनुसार, बिहार में 15 से 20 जून के बीच मानसून दस्तक दे सकता है। वहीं झारखंड में तो यह 15 जून तक पहुंच जाएगा। इसी तरह राजधानी दिल्ली में 20 जून के बाद मानसून दस्तक देगा वहीं महाराष्ट्र और मध्यप्रदेश में भी इसी दौरान मानसून आ सकता है।

IMD ने कहा होगी अच्छी बारिश

भारतीय मौसम विभाग ने मानसून की शानदार बारिश का पूर्वानुमान व्यक्त किया है। भारतीय मौसम विभाग के महानिदेशक डॉक्टर मृत्युंजय महापात्र ने कहा 'दक्षिण-पश्चिम मानसून ने केरल में दस्तक दे दी है। चालू सीजन में मानसूनी बादल देशभर में सामान्य से अधिक बरसेंगे।' उन्होंने आगे कहा कि एक जून को केरल में मानसून पूरी तरह सक्रिय हो गया है। यह अपनी निर्धारित रफ्तार से ही देश के दूसरे हिस्से की ओर बढ़ेगा।

जून से सितंबर के बीच सक्रिय रहने वाला मानसूनी बारिश का वितरण इस बार बहुत अच्छा रहने वाला है। जुलाई में सामान्य से 103 फीसद बारिश की संभावना है, जब खरीफ सीजन की फसलों के लिए सबसे ज्यादा जल की जरूरत होती है। इसके मुकाबले अगस्त माह में बारिश सामान्य से 97 फीसद रह सकती है।

मानसून सीजन के जून से सितंबर के बीच इन चार महीनों के दौरान सामान्य के मुकाबले 102 फीसद बारिश होने की संभावना है। डॉक्टर महापात्र ने बताया कि इस दौरान सामान्य तौर पर 88 सेमी बारिश होती है, जिससे अधिक बरसात हो सकती है।

बारिश के वितरण के बारे में डॉक्टर महापात्र ने बताया उत्तर पश्चिम क्षेत्रों में सामान्य से 107 फीसद, सेंट्रल इंडिया में 103 फीसद, दक्षिणी क्षेत्र में 102 फीसद और पूर्वोत्तर के राज्यों में बारिश सामान्य के मुकाबले 96 फीसद होने की संभावना है। वैसे कुल मिलाकर सामान्य से अधिक बरसात होगी।

Posted By: Ajay Kumar Barve

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना