नई दिल्ली Monsoon Session । संसद का मानसून सत्र अभी तक विपक्ष के हंगामे के कारण चल नहीं सकता है, वहीं अब कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने उल्टा केंद्र सरकार पर पलटवार करते हुए आरोप लगाया है कि केंद्र सरकार ने महंगाई, विवादित कृषि कानून और पेगासस मामले में बहस से बचने के लिए संसद सत्र चलने नहीं दे रही है। राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि सरकार संसद का समय बर्बाद कर रही है। संसद में कार्यवाही के दौरान विपक्ष को बोलने नहीं दिया जा रहा है। गौरतलब है कि राहुल गांधी बुधवार को भी मोदी सरकार को पेगासस जासूसी कांड को लेकर घेर चुके हैं।

इधर राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खडगे ने कहा है कि हम चाहते हैं कि पेगासस मुद्दे पर चर्चा हो और उनमें प्रधानमंत्री और गृह मंत्री उपस्थित रहें। अगर चर्चा करने दिए तो सदन चलेगा अगर चर्चा नहीं करने दिए तो रूक जाएगा। हम ऑल पार्टी मीटिंग बुलाए हैं, इसमें सभी मिलकर निर्णय लेंगे।

राहुल गांधी ने किया ट्विट

राहुल गांधी ने ट्विट करते हुए लिखा है कि “हमारे लोकतंत्र की बुनियाद है कि सांसद जनता की आवाज बनकर राष्ट्रीय महत्व के मुद्दों पर चर्चा करें। मोदी सरकार विपक्ष को ये काम नहीं करने दे रही। संसद का और समय व्यर्थ मत करो करने दो महंगाई, किसान और पेगासस की बात!”

पेगासस मामले में इसलिए चल रहा है विवाद

गौरतलब है कि पेगासस (Pegasus) एक कम्प्यूटर सॉफ्टवेयर है, जिसे किसी भी डिवाइस में एक्टिविटी को ट्रैक करने के लिए इंस्टॉल किया जा सकता है। सबसे पहले यह साल 2016 में सुर्खियों में आया था, जब UAE के मानवाधिकार कार्यकर्ता अहमद मंसूर को अपने फोन पर एक लिंक के साथ देश में प्रताड़ित कैदियों के बारे में एक टेक्स्ट मैसेज मिला, जिसे उन्होंने सिटीजन लैब के रिसर्चर्स को भेजा था। बाद में इस बारे में जांच की गई तो पता चला कि लिंक एनएसओ ग्रुप से संबंधित बेसिक स्ट्रक्चर से जुड़े हुए थे।

तब से यह स्पाइवेयर सॉफ्टवेयर पेगासस बहुत विकसित हो चुका है और अब एक जीरो-क्लिक अटैक बनने में कामयाब रहा है। बीते दिनों इस संबंध में कुछ मीडिया रिपोर्ट सामने आने के बाद विपक्ष का आरोप है कि भारत सरकार ने पेगासस (Pegasus) को खरीद लिया है। विपक्ष का आरोप है कि सरकार ने अपने ही लोगों के खिलाफ पेगासस सॉफ्टवेयर को हथियार के रूप में उपयोग कर रही है।

Posted By: Sandeep Chourey