Mumbai Drugs Case: मुंबई ड्रग्स केस में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) की कार्रवाई पर पहले दिन से सवाल उठाने वाले उद्धव ठाकरे सरकार के मंत्री और एनसीपी नेता नवाब मलिका ने सोमवार को नया बवाल खड़ा कर दिया। नवाब मलिक ने जयदीप राणा नामक शख्स के साथ भाजपा नेता और पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की पत्नी की फोटो जारी कर दी। नवाब मलिक के मुताबिक, जयदीप राणा ड्रग्स का धंधा करता है। इसके बाद भाजपा भड़क गई। खुद देंवेंद्र फडणवीस सामने आए और सफाई दी कि नवाब मलिक ने जो फोटो जारी की है वो 4 साल पुरानी है और यदि जयदीप ने कुछ गलत किया है तो पुलिस और एनसीबी कार्रवाई करने के लिए स्वतंत्र हैं। फडणवीस ने यह भी कहा कि नवाब मलिक ने गलत हरकत कर दी है। अब वे नवाब मलिक के अंडरवर्ल्ड से संबंंध उजागर करेंगे। बकौल देवेंद्र फडणवीस, नवाब मलिक ने फुलझड़ी छोड़ी है, दिवाली बाद बम हम फोड़ेंगे। पढ़िए पूरी बयानबाजी

Mumbai Drugs Case: नवाब मलिक ने देवेंद्र फडणवीस पर लगाए गंभीर आरोप

एनसीपी नेता और महाराष्ट्र के वरिष्ठ मंत्री नवाब मलिक ने दावा किया कि नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) के मुंबई जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े मुंबई में चल रहे ड्रग्स रैकेट के सरगना थे। मीडिया को संबोधित करते हुए मलिक ने दावा किया कि समीर वानखेड़े को एनसीबी में ट्रांसफर करने के पीछे महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस का हाथ था। मलिक ने कथित ड्रग तस्कर जयदीप राणा की अमृता फडणवीस (देवेंद्र फडणवीस की पत्नी) के साथ एक तस्वीर भी पोस्ट की और कहा कि उनके पूर्व मुख्यमंत्री के साथ संबंध हैं।

नवाब मलिक ने कहा, नशीले पदार्थों की तस्करी के मामले में जेल में बंद जयदीप राणा का संबंध पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस से है। वह पूर्व सीएम की पत्नी अमृता फडणवीस के प्रसिद्ध रिवर सॉन्ग का फाइनेंसर था।

Mumbai Drugs Case: देवेंद्र फडणवीस का पलटवार

महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना गठबंधन सरकार का नेतृत्व करने वाले फडणवीस ने नवाब मलिक के आरोपों को निराधार बताया। फडणवीस ने कहा कि अंडरवर्ल्ड से संबंध रखने वालों को दूसरों के बारे में नहीं बोलना चाहिए। मीडिया को संबोधित करते हुए फडणवीस ने कहा, मैं अंडरवर्ल्ड के साथ नवाब मलिक के संबंधों के सबूत पेश करूंगा। मैं दिवाली के बीतने का इंतजार कर रहा हूं। भाजपा नेता ने कहा कि यह महाराष्ट्र में अवैध ड्रग्स के कारोबार से संबंधित मामला है और मामले की सीबीआई या न्यायिक जांच की मांग की।

Posted By: Arvind Dubey