नई दिल्ली। 73वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर पीएम नरेंद्र मोदी ने लाल किले की प्राचीर से राष्ट्र को संबोधित किया। मोदी जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के मुद्दे पर भी बोले। उन्होंने कहा कि यह 70 साल से चली आ

रही समस्या थी, जिसे उनकी सरकार ने 70 दिन में खत्म कर दिया। पीएम ने कहा, हम समस्याओं को टालते और पालते नहीं हैं। उनका समाधान खोजते हैं। पढ़िए इस पर और क्या कहा पीएम ने -

- पीएम मोदी ने कहा, आर्टिकल 370 और 35A के लिए लाए गए बिल लोकसभा और राज्यसभा में दो तिहाई बहुमत के साथ पारित हुए। समझा जा सकता है कि हर किसी के मन में इसे हटाने की इच्छा थी, लेकिन सवाल यही था कि पहल कौन करे। इसी का इंतजार हो रहा था। देशवासियों ने मुझे यह जिम्मेदारी सौंपी और यह काम पूरा किया।

- आर्टिकल 370 पर लगभग सभी दलों का समर्थन मिला है। कुछ ने खुलकर समर्थन किया तो कुछ ने मूक रहकर। लेकिन कुछ लोग आर्टिकल 370 को भी चुनाव के तराजू पर तौल रहे हैं। वे इस फैसले पर सवाल उठा रहे हैं, तो पूरा देश उनसे उल्टा सवाल पूछ रहा है कि यह इतना जरूरी था कि तो 70 साल में इसे खत्म क्यों नहीं किया।

- अब जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लोगों का हर सपना पूरा हो, यह हम सबकी जिम्मेदारी है। अब इन दो केंद्रशासित प्रदेशों के लोगों को भी यह अधिकार मिल गया है कि वे दिल्ली से पूछ सकें कि उनके यहां विकास कार्यों कब और कैसे होंगे।

- आर्टिकल 370 और 35A हटने के बाद हमें जम्मू-कश्मीर में सुख-शांति के प्रयास करने होंगे। प्रदेश को पुराने दिनों में लौटना होगा, जहां हर व्यक्ति प्रदेश के विकास में अपना सहयोग कर सके।

- यह फैसला देश के भविष्य बहुत महत्वपूर्ण है। मेरे लिए देश का भविष्य ही सब कुछ है, राजनीतिक भविष्य मेरे लिए कुछ नहीं। आज जब मैं लाल किले से राष्ट्र को संबोधित कर रहा हूं, तब हर हिंदुस्तानी कह रहा है कि अब हम 'एक देश - एक संविधान' बन गए हैं।