डिफेंस रिसर्च एंड डेवेलपमेंट ऑर्गनाइजेशन और भारतीय नौसेना ने बुधवार को ओडिशा के इंटीग्रेटेड टेस्ट रेंज चांदीपुर से एक हेलीकॉप्टर से दागी स्वदेशी एंटी शिप मिसाइल का सफल परीक्षण किया। यह जानकारी डीआरडीओ के सूत्रों ने दी है। कहा कि अभियान ने अपने सभी मकसदों को पूरा किया। यह इंडियन नेवी के लिए हवा से प्रक्षेपित पहली स्वदेशी जहाज रोधी मिसाइल सिस्टम है। मिसाइल अपने मार्ग पर आगे बढ़ी और सटीकता के साथ लक्ष्य तक पहुंच गई। डीआरडीओ ने कहा, परीक्षण रेंज में सेंसर लगाए थे। मिसाइल के मूवमेंट की निगरानी की गई।

मिसाइल में नई तकनीक शामिल की गई। जिसमें हेलीकॉप्टर के लिए स्वदेशी लांचर भी है। मिसाइल प्रणाली में लेटेस्ट दिशासूचक और एकीकृत एवियोनिक्स भी है। उड़ान परिक्षण को डीआरडीओ और नौसेना के सीनियर अधिकारियों ने देखा। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने उड़ान परीक्षण के लिए सभी संबंधित टीम को बधाई दी। कहा, 'देश ने मिसाइल प्रणालियों के स्वदेशी डिजाइन और विकास में उच्च स्तर की क्षमता हासिल की है।'

रक्षा अनुसंधान एवं विकास विभाग के सचिव और डीआरडीओ के अध्यक्ष डॉ. जी सतीश रेड्डी ने टीम के प्रयासों की प्रशंसा की। उन्होंने परियोजना में सहयोग के लिए नेवी और नौसेना उड़ान परीक्षण स्क्वॉड्रन को बधाई दी। कहा कि यह प्रणाली इंडियन नेवी की मारक क्षमता को अधिक मजबूत करेगी।

Posted By: Shailendra Kumar

  • Font Size
  • Close