चंडीगढ़। भाजपा का दामन छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुए नवजोत सिंह सिद्धू ने पंजाब के मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है। सिद्धू के मुताबिक उन्होंने 10 जून को ही राहुल गांधी को अपना इस्तीफा भेज दिया था। सिद्धू ने खुद ट्वीट के जरिए इसकी जानकारी दी। ट्विटर पर उन्होंने वह पत्र भी पोस्ट किया है, जिसे उन्होंने पार्टी अध्यक्ष को संबोधित करते हुए मंत्री पद से इस्तीफा दिया है।

कांग्रेस नेता सिद्धू पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर के साथ पिछले कई दिनों से विवाद चल रहा था। सीएम कैप्टन अमरिंदर की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक से भी सिद्धू नदारद रहे थे। पंजाब में नवजोत सिंह सिद्धू अपनी ही सरकार के लिए किरकिरी बन गए थे।

दरअसल, उनके खिलाफ बीजेपी नेता तरूण चुग ने राज्यपाल को चिट्ठी लिखकर शिकायत की थी कि उन्होंने मंत्री पद की शपथ तो ले ली है, लेकिन अभी तक कार्यभार नहीं संभाला है फिर भी वह मंत्री के रूप में मिलने वाली सैलरी और भत्तों का पूरा मजा ले रहे हैं। चिट्ठी में लिखा गया था कि सिद्धू और सीएम के बीच विवाद ने संवैधानिक संकट पैदा कर दिया है।

लोकसभा चुनावों के दौरान पार्टी के खराब प्रदर्शन के लिए खुद को जानबूझकर निशाना बनाए जाने का सिद्धू ने आरोप लगाया था। वहीं, सीएम ने सिद्धू से उनका विभाग छीन लिया था। इसके बाद से सिद्धू कैप्टन से नाराज चल रहे थे। लोकसभा चुनाव 2019 में टिकट नहीं मिलने पर सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर सिद्धू ने कैप्टन के खिलाफ खुलकर नाराजगी जताई थी। इसका सिद्धू ने भी समर्थन किया था।