अमरीश शुक्ल, प्रयागराज। देश के सभी बड़े रेलवे स्टेशनों और बस अड्डों के करीब सस्ते लेकिन सर्वसुविधायुक्त रेस्ट रूम मुहैया कराने का जिम्मा इस स्टार्टअप ने उठाया है। आइबीटी रूम्स प्रोजेक्ट की शुरुआत लखनऊ से हो चुकी है। जल्द ही देश के अन्य बड़े शहरों में इसे विस्तार दिया जाना है। यूनीक स्टार्टअप के पीछे दो युवाओं की सोच है। इसके तहत देश के सभी बड़े रेलवे स्टेशनों व बस अड्डों के करीब एयरपोर्ट की तर्ज पर नहाने, धोने, फ्रेश होने संग प्रतीक्षालय की उच्च कोटि (फाइव स्टार) सुविधा देने की योजना है।

लखनऊ के बाद अब अन्य बड़े शहरों में प्रोजेक्ट पर काम चल रहा है। उत्तर प्रदेश के महराजगंज जिले के नौतनवां के रहने वाले रजत जायसवाल व बिजेंदर मधेशिया दोस्त हैं। रजत ने गलगोटिया विश्र्वविद्यालय नोएडा से 2016 में बीसीए किया व बिजेंदर ने बीबीडी लखनऊ से एमबीए किया है। रजत ने बताया कि उनका परिवार परंपरागत इलेक्ट्रिॉनिक सामानों के व्यवसाय में है।

उन्हें भी कई बार अपने पिता के साथ बिजनेस ट्रिप पर दिल्ली जाना होता था। स्टेशन पर ट्रेन से उतरने के बाद केवल फ्रेश होने के लिए 800 से 1000 रुपये तक का रूम लेना पड़ता था। केवल एक घंटे के लिए 1000 रुपये खर्च करना खलता था। यहीं से इस स्टार्टअप का आइडिया मिला कि क्यों न रेलवे स्टेशनों व बस अड्डों के करीब ऐसा लांज खोला जाए, जहां घंटे के हिसाब से पैसे देने हों।

भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान (ट्रिपल आइटी) प्रयागराज ने मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इन्फॉरमेशन टेक्नोलॉजी के तहत टाइड स्कीम द्वारा इस स्टार्टअप को 25 लाख रुपये की फंडिंग की है। यह राशि पांच-पांच लाख रुपये करके पांच किश्तों में मिली है। रजत ने बताया कि सबसे पहले इसकी शुरुआत लखनऊ में चारबाग रेलवे स्टेशन के पास होटल मोहन से की है। होटल के अंदर इसलिए, ताकि ग्राहकों को खोजने में परेशानी न हो। हमने 31 जनवरी तक प्रमोशनल ऑफर केवल 149 रुपये का चार्ज रखा है। यह चार्ज चार घंटे के लिए होगा। बाद में चार घंटे का नियमित चार्ज 349 कर दिया जाएगा।

बिजेंदर ने बताया कि अभी तक इस तरह का बिजनेस मॉडल मार्केट में उपलब्ध नहीं है। लिहाजा हम इसको लेकर काफी उत्साहित हैं। लखनऊ में इसकी शुरुआत 10 जनवरी 2017 से की है।

जल्द आएगा एप, बुकिंग ऑनलाइन

फिलहाल 149 रुपये का चार्ज रखा है। यह चार्ज चार घंटे के लिए होगा। इस सुविधा के लिए ग्र्राहक को वेबसाइट डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू डॉट आइबीटीरूम्स डॉट कॉट पर जाकर बुकिंग करानी होगी। होटल में सीधे जाकर भी इस सुविधा का लाभ उठाया जा सकता है। बुकिंग के लिए आसान एप्लीकेशन वाला मोबाइल एप भी लांच किया जा रहा है। आइबीटी रूम्स नाम से एप सभी प्ले स्टोर्स पर उपलब्ध हो जाएगा।

क्या-क्या सुविधाएं

बुकिंग करने वाले ग्राहक को बुक की गई राशि में ही बिस्किट, केट, नमकीन व अनलिमिटेड चाय-कॉफी की सुविधा दी जा रही है। रिफ्रेशमेंट के लिए भी टॉयलेटरी किट प्रदान की जाती है, जिसमें शैंपू, शॉवर जेल व साबुन रहेगा। रूम व वॉशरूम में एयर प्यूरीफायर लगाया गया है। स्टे के दौरान लैपटॉप, मोबाइल चाजिर्ग की भी सुविधा रहेगी। इसके अलावा फ्री वाईफाई की भी सुविधा प्रदान की जाएगी।

क्या है टाइड स्कीम

डिपार्टमेंट ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इन्फॉरमेशन टेक्नोलॉजी द्वारा टेक्नोलॉजी इंक्यूबेशन एंड डेवलपमेंट ऑफ इंटरप्रन्योरर्स (टाइड) स्कीम शुरू की गई है। इसका उद्देश्य तकनीकी संस्थानों के ऐसे छात्रों को आर्थिक व तकनीकी सहायता देना है जो इंटरप्रेन्योरशिप में अपना करियर बनाना चाह रहे हैं। इसी उद्देश्य ये लगभग हर तकनीकी संस्थान में टाइड इंक्यूबेशन सेंटर्स की शुरुआत की गई है।

इस स्टार्टअप का कई स्तरों पर परीक्षण किया है। कई मानकों पर जांचा है। इसके बाद ट्रिपलआइटी ने दोनों युवाओं को प्रोजेक्ट लांच करने की तकनीक व आर्थिक सहायता दी है। उम्मीद करता हूं कि दोनों युवा इस क्षेत्र में लोगों को बेहतर सुविधा देने में कामयाब होंगे। -प्रो. राहुल खेड़ा, फैकल्टी इंचार्ज, इंफो कम्युनिकेशन इंक्यूबेशन सेंटर, ट्रिपलआइटी, प्रयागराज, उप्र।