Nirbahya केस में मंगलवार का दिन अहम रहा। Nirbhaya के साथ दरिंदगी करने वाले चार दोषियों में से दो, विनय शर्मा और मुकेश, की Curative Petition सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दी। 5 जजों की पीठ ने दोनों की याचिका को सुनवाई योग्य नहीं समझा। इससे पहले दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने बीती 7 जनवरी 2020 को चारों के खिलाफ डेथ वारंट जारी करते हुए फांसी की सजा देने के लिए 22 जनवरी सुबह 7 बजे का समय तय किया था। अपनी Curative Petition में मुकेश और विनय ने कहा था कि निचली अदालत का फैसला पूरी तरह सही नहीं है। साथ ही दोषियों ने अपनी सामाजिक और आर्थिक स्थिति की दुहाई दी थी। इसके बाद मुकेश ने राष्ट्रपति के समक्ष दया याचिका भी पेश कर दी है। वहीं दो अन्य दोषियों, पवन गुप्ता और अक्षय कुमार ने अभी क्युरेटिव पिटीशन दायर नहीं की है।

मां बोली- अब 22 तारीख का इंतजार

निर्भया की मां आशा देवी ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत किया और कहा कि यह मेरे लिए बड़ा दिन है। मैं न्याय के लिए 7 साल से लड़ रही हूं, लेकिन सबसे बड़ा दिन 22 जनवरी का होगी जब चारों दोषियों को फांसी के फंदे पर टांग दिया जाएगा।

फांसी के फंदे से 7 दिन दूर, बचे सिर्फ ये विकल्प

  1. विनय शर्मा: क्युरेटिव पिटीशन खारिज, राष्ट्रपति के पास दया याचिका आखिरी विकल्प।
  2. मुकेश: क्युरेटिव पिटीशन खारिज, , राष्ट्रपति के पास दया याचिका आखिरी विकल्प।
  3. अक्षय कुमार सिंह: क्युरेटिव पिटीशन का विकल्प बचा, लेकिन राहत की उम्मीद कम। फिर दया याचिका आखिरी विकल्प।
  4. पवन गुप्ता: क्युरेटिव पिटीशन का विकल्प बचा, लेकिन राहत की उम्मीद कम। फिर दया याचिका आखिरी विकल्प।

तिहाड़ जेल में चल ही तैयारी

पटियाला हाउस कोर्ट द्वारा डेथ वारंट जारी किए जाने के बाद से तिहाड़ जेल में तैयारियां चल रही हैं। यहां पुतलो को फांसी देकर फांसी के फंदों को परखा जा चुका है। अधिकारियों का कहना है कि उनकी तैयारी पूरी है और कोर्ट के आदेश के अनुसार दोशशियों को सजा दे दी जाएगी।

Posted By: Arvind Dubey

fantasy cricket
fantasy cricket