Nirbhaya Case Live: दिल्ली हाई कोर्ट ने निर्भया के दोषियों की फांसी संबंधी निर्णय पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है। इसके बाद अब तय हो गया है कि चारों आरोपियों को सुबह तय समय पर फांसी की सजा दी जाएगी। जज ने यह कहा कि अब इन लोगों के भगवान से मिलने का समय आ गया है। इससे पहले दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट द्वारा निर्भया के दोषियों की फांसी पर रोक लगाने की याचिका खारिज करने का मामला दिल्ली हाई कोर्ट में पहुंच गया। न्यायमूर्ति मनमोहन की अगुवाई वाली डिवीजन पीठ ने इस मामले में सुनवाई की। दोषियों के वकील ने हाईकोर्ट में अपना पक्ष रखा।

जज ने दोषियों के वकील को फटकार लगाते हुए कहा कि आपके पास कोई शपथ पत्र नहीं और कोई तथ्य भी नहीं हैं । आपको यह अर्जी दायर करने की अनुमति किसने दी है?

इस पर दोषियों के वकील ने जवाब दिया कि कोर्ट में कोरोना वायरस की वजह से फोटोकॉपी की दुकानें खुली नहीं हैं।

जज ने कहा कि अर्जी में ऐसा कोई वैलिड ग्राउंड नहीं है, जिसकी वजह से निचली अदालत के फैसले पर रोक लगाई जा सके। निचली अदालत ने भी इसी आधार पर फांसी पर रोक नहीं लगाई।

जवाब में दोषियों के वकील ने कहा कि ऐसे कई तथ्य हैं, जिनके ऊपर पर गौर नहीं किया गया।

निर्भया कांड तीन दोषियों ने हाई कोर्ट में अत्यावश्यक याचिका दायर की है। याचिका में कहा गया है कि निचली अदालत ने कई तथ्यों को दरकिनार किया है। दोषियों की कई अर्जी अभी भी विचाराधीन हैं। वहीं, दया याचिकाओं पर गौर किए बिना ही इसको खारिज किया गया। ऐसे में डेथ वारंट पर रोक लगानी चाहिए।

दिल्ली हाई कोर्ट की डिविजन बेंच के जस्टिस मनमोहन और जस्टिस संजीव नरूला दोषियों की याचिका पर सुनवाई की हैं।

निर्भया के चारों दोषियों की फांसी पर रोक लगाने वाली याचिका दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट से खारिज होने के बाद तिहाड़ जेल में फांसी की तैयारियों को अंतिम रूप देना शुरू कर दिया है। डेथ वारंट पर रोक लगाने से कोर्ट के इनकार के बाद तीन दोषी दिल्ली हाई कोर्ट (Delhi High Court) पहुंच गए। तीनों दोषियों ने ट्रायल कोर्ट के फैसले को हाईकोर्ट में चुनौती दी ।

शुक्रवार सुबह 5:30 बजे चारों दोषियों (विनय कुमार शर्मा, पवन कुमार गुप्ता, मुकेश सिंह और अक्षय कुमार सिंह) को फांसी दी जाएगी। वहीं, फांसी पर रोक की याचिका खारिज होने पर परिजनों में भारी निराशा का इजहार किया है। गुरुवार शाम दोषी मुकेश के परिजन उससे मुलाकात के लिए तिहाड़ जेल पहुंचे। माना जा रहा है कि तिहाड़ जेल प्रशासन उनकी मुलाकात के लिए नियमों के अनुसार कदम उठाएगा।

Posted By: Yogendra Sharma

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना