Norovirus In India: देश में कोरोना महामारी पूरी तरह खत्म नहीं हुई है कि एक नई मुश्किल की आहट सुनाई दे रही है। केरल के तिरुवनंतपुरम में प्राथमिक विद्यालय के दो छात्र नोरोवायरस से संक्रमित पाए गए। उल्टी, दस्त और बुखार इस बीमारी के लक्षण है। नोरोवायरस (Norovirus) अत्यधिक संक्रामक है और दूषित भोजन, पानी और सतहों के माध्यम से फैलती है। केरल स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने कहा कि कुछ और मरीजों के नमूने जांच के लिए भेजे गए हैं। प्रथम दृष्टया ऐसा माना जा रहा है कि स्कूलों में बांटे गए मध्याह्न भोजन से छात्रों को फूड प्वाइजनिंग हुई है।

मध्याह्न भोजन को सुरक्षित बनाने के लिए क्या कदम उठाए जाने चाहिए, इस पर चर्चा करने के लिए शिक्षा मंत्री वी शिवनकुट्टी ने अधिकारियों की बैठक बुलाई है। पिछले साल नवंबर में वायनाड के एक पशु चिकित्सा महाविद्यालय के एक दर्जन से अधिक छात्र इस वायरस से संक्रमित हुए थे।

स्वास्थ्य मंत्री का बयान- चिंता की बात नहीं

केरल की स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज के मुताबिक, विझिंजम में नोरोवायरस के 2 मामलों की पुष्टि हुआ है। चिंता की कोई जरूरत नहीं है। स्वास्थ्य विभाग ने स्थिति का आकलन किया है। क्षेत्र से नमूने एकत्र और परीक्षण किए गए हैं और जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं। दोनों बच्चों की हालत स्थिर है।

27 देशों में मंकीपॉक्स के 780 मामलों की पुष्टि : डब्ल्यूएचओ

इस बीच, मंकीपॉक्स का खतरा भी बना हुआ है। डब्ल्यूएचओ ने रविवार को कहा कि विश्व के गैर स्थानिक 27 देशों में मंकीपाक्स के 780 मामलों की पुष्टि हो चुकी है। गैर स्थानिक वो देश हैं जहां यह बीमारी बाहर से आई है।

संयुक्त राष्ट्र की वैश्विक स्वास्थ्य संस्था ने कहा है कि 29 मई के बाद से गैर स्थानिक देशों में मंकीपाक्स के मामलों में 203 प्रतिशत से ज्यादा की वृद्धि हुई है। डब्ल्यूएचओ ने कहा कि 13 मई से दो जून के बीच इन देशों में मंकीपाक्स के कुल मामले 257 से बढ़कर 780 हो गए हैं। इस तरह में इनमें 523 की बढ़ोतरी हुई है। हालांकि, इन देशों में मंकीपाक्स की वजह से अभी कोई मौत होने की खबर नहीं है।

Posted By: Arvind Dubey

  • Font Size
  • Close