नई दिल्ली। इसरो के मिशन चंद्रयान-2 पर पूरे देश की खास नजर थी। वहीं आईएनएक्स मीडिया केस में तिहाड़ जेल में बंद पूर्व वित्त मंत्री और कांग्रेस के बड़े नेता पी. चिदंबरम भी खुद को इस रोमांच से दूर नहीं रख पाए। खबर है कि चिदंबरम भी इसरो के मिशन चंद्रयान-टू पर नजर रखे हुए थे। वह रातभर इसको लेकर उत्सुक रहे और सुबह होते ही कर्मचारियों से मिशन की जानकारी ली।

इस बीच, शनिवार को कोई भी उनसे मिलने के लिए नहीं आया। गुरुवार रात 19 सितंबर तक न्यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल भेजे गए चिदंबरम शनिवार को भी देर से सोकर उठे और प्रार्थना में भाग नहीं लिया।

सेल में टीवी नहीं होने की वजह से वे जेल कर्मचारियों से इस बारे में सूचना ले रहे थे। शनिवार सुबह जब उनकी सेल में जेल प्रशासन का कर्मचारी गया तो सबसे पहले चंद्रयान-2 के बारे में ही पूछा। इसके बाद अखबार पढ़ने की इच्छा जताई। बैरक में जाकर अन्य कैदियों के साथ टेलीविजन देखा। लाइब्रेरी में भी कुछ समय रहे।

जेल अधिकारियों के मुताबिक, चिदंबरम को सेल में चारपाई नहीं मिली। ऐसे में अन्य कैदियों की तरह वे फर्श पर ही सोए। जेल नियमों के हिसाब से ही उन्हें खाना दिया जा रहा है। साथ ही जेल प्रशासन उन पर पूरी तरह से नजर बनाए हुए है।

अधिकारियों ने बताया कि नियम के मुताबिक जेल में हर कैदी की काउंसलिग होती है। चिदंबरम की काउंसलिग भी अगले एक-दो दिन में की जाएगी। सूत्रों के मुताबिक जेल में पहले दिन चिदंबरम के चेहरे पर मायूसी थी, लेकिन अब वे धीरे-धीरे सहज हो रहे हैं। पहले दिन तो किसी भी कर्मचारी से बात नहीं कर रहे थे, लेकिन अब जो भी कर्मचारी उनकी सेल में जाता है। उससे बात कर रहे हैं और सहज दिख रहे हैं।