नई दिल्ली। नवनिर्वाचित सांसदों के शपथ-ग्रहण के साथ सोमवार को 17वीं लोकसभा के पहले सत्र की शुरुआत हो गई। सबसे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सदन के मुखिया के रूप में और उनके बाद अन्य सदस्यों ने बारी-बारी से शपथ ली। यह क्रम शाम चला। शाम को भोपाल से भाजपा सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने भी शपथ ली। इस दौरान विवाद की स्थिति बनी और विपक्ष ने हंगामा किया। बताते हैं कि प्रज्ञा ठाकुर के संस्कृत में शपथ लेते समय कुछ सदस्यों ने उनके नाम पर आपत्ति ली। इसके बाद प्रोटेम स्पीकर ने कहा कि सांसद का जो नाम चुनाव आयोग द्वारा जारी प्रमाण-पत्र में है, वहीं मान्य होगा। फिर प्रज्ञा ठाकुर को दूसरी बार शपथ लेना पड़ी। बता दें, मालेगांव ब्लास्ट में आरोपी प्रज्ञा ठाकुर ने भोपाल से कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह को हराया है।

सदस्यों के शपथ-ग्रहण का यह क्रम मंगलवार तक चलेगा। जब तक सभी सदस्यों की शपथ नहीं हो जाती तब तक सदन में कोई कार्रवाई नहीं होगी। अगले दो दिनों तक सदन में केवल शपथ ग्रहण का कार्यक्रम होगा और उसके बाद स्पीकर का चुनाव होगा। 20 जून को राष्ट्रपति संसद के दोनों सदनों को संबोधित करेंगे। जबकि पांच जुलाई को सरकार अपना पूर्ण बजट पेश करेगी।

Posted By: Arvind Dubey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस