नई दिल्ली। हैदराबाद में महिला डॉक्टर की हत्या करने वाले चारों आरोपियों का पुलिस ने एनकाउंटर कर दिया है। संसद के शीतकालीन सत्र में भी यह मुद्दा उठा और इस पर जमकर हंगामा हुआ। लोकसभा में इस मसले पर जमकर बलोवाल हुआ और सांसदों की अलग-अलग प्रतिक्रियाएं सामने आईं। हैदराबाद और उन्नाव पर विपक्ष द्वारा हंगामा करने पर भाजपा केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी का रुख भी हमलावर नजर आया। इस मामले का राजनीतिकरण करने को लेकर ईरानी ने विपक्षी सांसदों को आड़े हाथों लिया। उन्होंने इस मामले को साम्प्रदायिकता का रंग देने को लेकर कहा कि महिला सम्मान को धर्म से जोड़ना गलत होगा।

बंगाल के एक सांसद द्वारा हैदराबाद और उन्नाव का जिक्र करने को लेकर स्मृति ईरानी ने कहा कि 'तथ्य तो यह है कि आज आप लोग जिस मुद्दे पर चिल्ला रहे थे, इसका मतलब है कि आप महिलाओं के साथ खड़ा नहीं होना चाहते और इस मुद्दे पर नहीं बोलना चाहते। आप लोग तब चुप थे जब पश्चिम बंगाल में पंचायत चुनाव थे। तब वहां दुष्कर्म को राजनीतिक हथियार के तौर पर इस्तेमाल किया गया। तब आप तो चुप थे।' ईरानी ने कहा आखिर मालदा में क्या हुआ उस पर क्यों चुप्पी साधी गई है। जैसे ही स्मृति ईरानी ने सदन में मालदा का नाम लिया तो लोकसभा में हंगामा शुरू हो गया।

इसके पूर्व लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने महिलाओं के खिलाफ अपराध का मुद्दा उठाया। इस दौरान उन्होंने भी हैदराबाद और उन्नाव का जिक्र किया। उन्होंने यूपी सरकार पर निशाना साधते हुए बोला कि उन्नाव की पीड़िता 95 फीसदी जल गई। आखिर यह देश में हो क्या रहा है?

Posted By: Neeraj Vyas

fantasy cricket
fantasy cricket