नई दिल्ली। संसद के शीतकालीन सत्र की घोषणा हो चुकी है और यह अगले महीने यानी 18 नवंबर से शुरू होगा। यह सत्र एक महीने के लिए होगा और 13 दिसंबर को खत्म हो जाएगा। इस एक महीने में सदन में कईं अहम बिलों पर चर्चा हो सकती है वहीं यह सत्री भी पिछले सत्रों की तरह हंगामेदार हो सकता है। संसद के शीतकालीन सत्र की तारीख को लेकर संसदीय कार्य मंत्रालय ने संसद के दोनों सदनों के सचिवालयों को सूचना जारी कर दी है। तीन सालों में यह पहली बार है जब संसद का शीतकालीन सत्र 18 नवंबर से शुरू होगा, पिछले दो साल से यह 21 नवंबर को शुरू हो रहा था।

जानकारी के अनुसार, संसद के शीतकालीन सत्र में सरकार कईं सारे विधेयक पेश करने के साथ ही दो अध्यादेशों को कानून बनाने के लिए पेश कर सकती है। जिसमें ई-सिगरेट पर प्रतिबंध के अलावा आयकर और वित्त अधिनियम में संशोधन के लिए जारी विधेयक भी है।

संसद के शीतकालीन सत्र की तारीखों का फैसला पिछले हफ्ते बुधवार को हुई संसदीय मामलों की समिति की बैठक में लिया गया था जिसकी अध्यक्षता केंद्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने की थी।

माना जा रहा है कि यह सत्र पिछले सत्रों की तरह हंगामेदार हो सकता है क्योंकि विपक्षी दल एनआरसी के अलावा देश की अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर सरकार को घेर सकते हैं। हालांकि, संसद का पिछला सत्र हंगामेदार होने के साथ ही काफी अच्छा रहा क्योंकि इस सत्र में 35 विधेयक पारित किए गए थे। 17वीं लोकसभा के पहले सत्र ने इतने विधेयक पारित करने के साथ ही 1952 में पहली लोकसभा के पहले सत्र में पारित हुए 24 विधेयकों का रिकॉर्ड तोड़ दिया था।

Posted By: Ajay Barve