सरकार की रक्षा निर्यात बढ़ाने की योजनाओं को एक बड़ी सफलता मिली है। फिलीपींस ने भारतीय ब्रह्मोस एयरोस्पेस प्राइवेट लिमिटेड के 37.49 करोड़ अमरीकी डालर (2779 करोड़ रुपये) के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। यह प्रस्ताव फिलीपींस नौसेना के लिए तट-आधारित पोत रोधी मिसाइल प्रणाली की आपूर्ति से संबंधित है।सरकारी अधिकारियों ने कहा, "फिलीपींस के राष्ट्रीय रक्षा विभाग ने प्रस्ताव को स्वीकार करने के बाद ब्रह्माोस के अधिकारियों को इसकी सूचना दी है।" फिलीपींस सरकार के रक्षा विभाग ने अपनी वेबसाइट पर अनुबंध सौंपे जाने से संबंधित नोटिस अपलोड कर दिया है।

रक्षा अनुसंधान विकास संगठन (डीआरडीओ) और ब्रह्माोस एयरोस्पेस पिछले कुछ महीनों से मित्र देशों को इस मिसाइल का निर्यात करने में जुटे हैं। ब्रह्माोस निर्यात का मिला आदेश इस क्षेत्र में देश के लिए सबसे बड़ा होगा। इससे हथियार निर्यातक देशों की कतार में भारत भी आगे आ सकता है। अन्य मित्र राष्ट्रों से भी मिसाइल के लिए आर्डर मिलने की उम्मीद है।

मंगलवार को ही किया गया था ब्रह्मोस सुपरसोनिक मिसाइल का सफल परीक्षण

भारत ने बीते मंगलवार को पश्चिमी तट पर भारतीय नौसेना के विध्वंसक आईएनएस विशाखापत्तनम से ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का सफल परीक्षण किया था। भारतीय नौसेना के अनुसार, मिसाइल के समुद्र से समुद्र के इस संस्करण का अधिकतम सीमा पर परीक्षण किया गया था और सटीक सटीकता के साथ लक्ष्य जहाज को मारा गया था। मिसाइल का परीक्षण आईएनएस विशाखापत्तनम से किया गया था जो हाल ही में शामिल भारतीय नौसेना का नवीनतम युद्धपोत है। मिसाइल भारत और रूस के बीच एक संयुक्त उद्यम है जहां रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) भारतीय पक्ष का प्रतिनिधित्व करता है।

ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का नवीनतम परीक्षण रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) द्वारा दिसंबर में ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल के एक हवाई संस्करण के सफल परीक्षण के एक महीने बाद हुआ।मिसाइल के समुद्र से समुद्री संस्करण का अधिकतम सीमा पर परीक्षण किया गया और लक्ष्य जहाज को सटीक सटीकता के साथ मारा गया। ब्रह्मोस भारतीय नौसेना के युद्धपोतों की मुख्य हथियार प्रणाली है और इसे इसके लगभग सभी सतह प्लेटफार्मों पर तैनात किया गया है।

Posted By: Navodit Saktawat