ज्ञानेन्द्र सिह, कुंभनगर। कुंभ -2019 के तीसरे और अंतिम शाही स्नान महापर्व वसंत पंचमी पर संगम पर शनिवार को ही जनसैलाब उमड़ पड़ा। वासंतिक लहरों में जनसैलाब हिलोरे मारते दिखा। शहर से लेकर कुंभ मेला तक की सड़कें श्रद्धा पथ में तब्दील नजर आईं। लगभग आठ किमी की परिधि में फैले संगम के सर्कुलेटिग एरिया में तिल रखने भर की जगह नहीं बची। देर रात तक लोग मेला क्षेत्र की तरफ आ रहे थे।

कुंभ मेला प्रशासन का दावा है कि देर शाम तक ही लगभग 60 लाख श्रद्धालुओं ने पावन संगम में पुण्य की डुबकी लगा ली है। वसंत पंचमी पर लगभग तीन करोड़ श्रद्धालुओं के स्नान का अनुमान है। भारी भीड़ उमड़ने पर दोपहर बाद ही नया यमुना पुल और शास्त्री ब्रिज पर यातायात रोक दिया गया। मेले में वाहनों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। पंचांग के लिहाज से पंचमी शनिवार सुबह नौ बजे से ही लग गई थी, इसीलिए बड़ी संख्या में लोग कुंभ मेला क्षेत्र पहुंचे और संगम तथा गंगा घाटों में स्नान किया।

श्रद्धालु जय गंगा मैया, हर-हर महादेव के जयकारों के साथ स्नान कर रहे थे। फाफामऊ से अरैल के बीच संगम के लंबे दोनों तटों पर बने 41 स्नान घाटों पर दिनभर पुण्य की डुबकी लगी। शाही स्नान रविवार को होगा। उदया तिथि इसी दिन लग रही है, इसलिए दिनभर पंचमी मानी जाएगी। पुण्य की डुबकी लगाने की आतुरता ऐसी है कि शाम तक 58 पार्किंंग स्थल वाहनों से पैक हो चुके थे।

भीड़ प्रबंधन के लिहाज से तीन से पांच किमी पहले ही वाहनों को रोक दिए जाने से हर तरफ श्रद्धालु पैदल ही दिखे। सिर पर गठरी, कंधे पर झोला, बच्चों और महिलाओं का हाथ थामे लोग संगम तट की ओर लंबे डग भरते रहे। कुंभ मेलाधिकारी विजय किरन आनंद ने बताया कि वसंत पंचमी पर दो दिनों के दौरान लगभग तीन करोड़ लोगों के स्नान का अनुमान है। मंडलायुक्त डॉ.आशीष कुमार गोयल ने बताया कि अंतिम शाही स्नान की जबर्दस्त तैयारी की गई है।

सुरक्षा के व्यापक प्रबंध,अतिरिक्त सतर्कता के निर्देश

वसंत पंचमी महास्नान पर कुंभ मेला क्षेत्र में सुरक्षा के व्यापक प्रबंध किए गए हैं। डीआइजी (कुंभ) केपी सिह ने बताया कि मेला क्षेत्र के इंट्री प्वाइंटों, संगम व पांटून पुलों पर अतिरिक्त सतर्कता के निर्देश दिए गए हैं। श्रीअखाड़ों के शाही स्नान की सुरक्षा के लिए एटीएस और एनएसजी के कमांडो भी मुस्तैद किए गए हैं। मेला क्षेत्र के 10 चौराहों पर अतिरिक्त फोर्स को तैनात किया गया है। मौनी के स्नान पर इन चौराहों पर भीड़ का दबाव बढ़ गया था।

Posted By: