Parliament Monsoon Session: 19 जुलाई से संसद का मॉनसून सत्र शुरु होनेवाला है। लॉकडाउन और कोरोना महामारी के बीच पिछले डेढ़ सालों से संसद की कार्यावाही ठीक से नहीं चल पाई थी। इस बार करीब एक महीने तक चलने वाले इस मानसून सत्र के दौरान 20 बैठकें होने की संभावना है और सत्ता पक्ष के साथ-साथ विपक्ष भी इसे लेकर पूरी तैयारी कर रहा है। सदन की गरिमा और मर्यादा को बनाये रखते हुए सदन की कार्यवाही कैसे सुचारु रुप से संचालित की जाए, इसे लेकर बुधवार को लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने उपराष्ट्रपति और राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू (M Venkaiah Naidu) के निवास पर बैठक की। दोनों के बीच संसद के आगामी मानसून सेशन की तैयारियों को लेकर विस्तार से चर्चा हुई। बाद में उपराष्ट्रपति के ऑफिशियल ट्विटर अकाउंट से जानकारी दी गई कि मानसून सत्र को लेकर राज्यसभा और लोकसभा के वरिष्ठ अधिकारियों को आवश्यक निर्देश जारी कर दिए गए हैं।

आमतौर पर संसद का मानसून सत्र जुलाई के तीसरे सप्ताह से शुरू होता है और स्वतंत्रता दिवस से पहले समाप्त होता है। इस बार भी संसद के मानसून सत्र के 19 जुलाई से शुरू होकर 13 अगस्त तक चलने की संभावना है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक संसदीय मामलों संबंधी मंत्रिमंडल समिति ने इस सत्र की अवधि को लेकर सिफारिश की है। साथ ही सत्र के दौरान संसद परिसर में कोविड से जुड़े सभी प्रोटोकाल का पालन किया जायेगा। उम्मीद की जा रही है कि सत्र के दौरान परिसर में प्रवेश करने वाले सांसद तब तक कोविड वैक्सीन की कम से कम एक डोज ले चुके होंगे। अगर सदन में कोरोना संक्रमण का अंदेशा हुआ, तो सदन की अवधि एक बार फिर घटाई जा सकती है। इसलिए सत्र के दौरान पूरी सावधानी बरती जाएगी।

Posted By: Shailendra Kumar