Har Ghar Jal Utsav: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को गोवा में 'हर घर जल उत्सव' कार्यक्रम को संबोधित किया। उनका यह संबोधन डिजिटल तरीके से हुआ। उन्होंने कहा कि जल जीवन मिशन की सफलता की वजह उसके चार मजबूत स्तंभ हैं। इसका पहला स्तंभ जनभागीदारी है। जिस तरह से पंचायतों, ग्राम सभाओं, गांव के स्थानीय लोगों को शामिल किया गया और जिम्मेदारियां सौंपी गई। वह अपने आप में अभूतपूर्व है।

जमीनी स्तर पर फायदा मिला

पीएम मोदी ने कहा, दूसरा स्तंभ साझेदारी है। राज्य सरकारें, पंचायतें, स्वयंसेवी संस्थाएं, शिक्षा संस्थाएं और सरकार के विभिन्न मंत्रालय मिलकर काम कर रह हैं। जिसका जमीनी स्तर पर बड़ा फायदा मिल रहा है। उन्होंने कहा कि तीसरा स्तंभ राजनीतिक इच्छाशक्ति है, जो पिछले 70 साल में हासिल किया गया। उससे कई गुणा अधिक काम पिछले सात वर्षों से भी कम समय में हासिल किया गया है। केंद्र, राज्य सरकारें और पंचायतें सभी इस अभियान को पूरा करने में जुटी हैं।

रोजगार के नए अवसर

प्रधानमंत्री ने कहा, 'इसका चौथा स्तंभ संसाधनों के सही इस्तेमाल है। मनरेगा जैसे वह कार्य जो जल जीवन मिशन को गति देते हैं उनसे भी मदद ली जा रही है।' इस मिशन के तहत जो कार्य हो रहा है। उससे गांव में बड़े पैमाने पर रोजगार के नए अवसर बन रहे हैं। उन्होंने कहा कि आज गोवा देश का पहला राज्य बना है। जिसे हर घर जल सर्टिफाई किया गया है। दादरा नगर हवेली एवं दमन और दीव भी, हर घर जल सर्टिफाइड केंद्र शासित राज्य बन गए हैं।

करोड़ ग्रामीण सुविधा से जुड़े

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज 10 करोड़ ग्रामीण परिवार पाइप द्वारा स्वच्छ जल की सुविधा से जुड़ चुके हैं। ये हर घर जल पहुंचाने की सरकार की बहुत बड़ी सफलता है। ये सबका प्रयास का बेहतरीन उदाहरण भी है। इसको लेकर भी देश ने अहम माइलस्टोन हासिल किया है।

Posted By: Sandeep Chourey

  • Font Size
  • Close