नई दिल्ली। दिल्ली के लुटियंस जोन स्थित बंगले को खाली करने से पहले कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भाजपा के राज्यसभा सदस्य अनिल बलूनी को चाय पर आमंत्रित किया। प्रियंका अभी 35, लोधी एस्टेट बंगले में वर्ष 1997 से रह रही हैं। अब इस बगंले को बलूनी को आवंटित किया गया है। सूत्रों के मुताबिक, प्रियंका का निमंत्रण पत्र और फोन के माध्यम से बलूनी के दफ्तर में गया है, लेकिन अब तक इस पर उनकी ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

प्रियंका के करीबी सूत्रों ने बताया कि बलूनी को 31 जुलाई से पहले सपरिवार चाय पार्टी पर आने के लिए शनिवार को औपचारिक आमंत्रण भेजा गया है। यह बंगले के नए आवंटी के प्रति सामान्य शिष्टाचार है। प्रियंका को सरकार ने एक जुलाई को पत्र भेजकर एक अगस्त तक सरकारी आवास खाली करने को कहा था। कांग्रेस महासचिव की एसपीजी की सुरक्षा पहले ही वापस हो चुकी है। प्रियंका के एक करीबी सहयोगी ने बताया कि बंगले को सीपीडब्ल्यूडी और एस्टेट विभाग को सौंपे जाने का काम जल्द शुरू किया जाएगा।

गृह मंत्रालय ने 30 जून को पत्राचार में कहा था कि प्रियंका गांधी को देशभर के लिए सीआरपीएफ की जेड प्लस सुरक्षा प्रदान की गई है। इसके तहत सरकारी आवास के आवंटन या उसे बरकरार रखने का प्रावधान नहीं है। सूत्रों के मुताबिक प्रियंका ने पिछले 23 सालों के दौरान बंगले में जो निर्माण कार्य या अंदरूनी सजावट करवाई है, उसे जस का तस छोड़ जाएंगी।

बताते चलें कि प्रियंका गांधी को बंगला खाली करने का नोटिस दिए जाने पर कांग्रेस के कई नेताओं ने मोदी सरकार पर निशाना साधा, लेकिन प्रियंका गांधी ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। सरकारी आवास खाली करने के बाद प्रियंका गांधी कुछ हफ्तों के लिए अस्थाई रूप से गुरुग्राम सेक्टर 42 के डीएलएफ अरालिया स्थित अपने घर में रहेंगी। उसके बाद नई दिल्ली इलाके के एक किराए के मकान में शिफ्ट होंगी, जिसकी मरम्मत चल रही है।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai

  • Font Size
  • Close