नई दिल्ली। करीब महीने भर चले सियासी आरोप-प्रत्यारोप व विवाद के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने गुरुवार को लुटियंस जोन वाला सरकारी बंगला खाली कर दिया। मगर, बंगला खाली करने से पहले उन्होंने अधिकारियों को घर को दिखाते हुए एक वीडियो भी जारी किया है, जिसमें उसके हर कोने की तस्वीर दिख रही है। माना जा रहा है कि यूपी के सीएम अखिलेश यादव से सबक लेते हुए प्रियंका गांधी ने यह कदम उठाया है।

दरअसल, सरकारी बंगला खाली करने के बाद अखिलेश यादव पर आरोप लगे थे वह घर की टाइल्स उखाड़ गए और नलों को खोल ले गए थे। इसे ध्यान में रखते हुए प्रियंका गांधी ने केंद्रीय लोक निर्माण विभाग (सीपीडब्ल्यूडी) के अधिकारियों को बंगले का मुआयना करवाया और इसका एक वीडियो भी जारी किया। इसके बाद उन्हें बंगले की चाभी सौंप दी गई। अधिकारियों ने बंगला खाली किए जाने का प्रमाण पत्र भी सौंप दिया है। प्रियंका ने सीपीडब्लयूडी व एस्टेट निदेशक को उन सामानों और कामों की सूची भी सौंपी है, जिसे उन्होंने बंगले में निजी तौर पर कराया था।

कांग्रेस ने दावा किया कि प्रियंका गांधी ने बिजली व पानी के बिल समेत अन्य सभी बकाये का भुगतान कर दिया है। एस्टेट निदेशक से जुलाई के लिए लाइसेंस फीस के निर्धारण का आग्रह किया गया है, ताकि बंगले से संबंधित सभी अकाउंट को बंद करते हुए लीज को रद कराया जा सके।

लोधी एस्टेट स्थित यह बंगला उन्हें सुरक्षा कारणों से आवंटित किया गया था। अब यह बंगला भाजपा मीडिया सेल के प्रभारी व राज्यसभा सदस्य अनिल बलूनी को आवंटित किया गया है। कांग्रेस की तरफ से जारी आधिकारिक बयान के अनुसार, प्रियंका गांधी ने 35, लोधी एस्टेट बंगले को सीपीडब्ल्यूडी को सौंप दिया।

कांग्रेस महासचिव के करीबी सूत्रों का कहना है कि प्रियंका कुछ दिनों तक गुरुग्राम स्थित अपने पेंटहाउस में रहेंगी और इसके बाद वह मध्य दिल्ली स्थित एक किराये के घर में शिफ्ट हो जाएंगी। फिलहाल, उस मकान के रंगरोगन और मरम्मत का काम जारी है।

बता दें कि शहरी विकास मंत्रालय ने पहली जुलाई को नोटिस जारी करते हुए एक अगस्त तक प्रियंका को बंगला खाली करने के लिए कहा था। नोटिस में कहा गया था कि उन्हें प्रदान की गई सुरक्षा के अंतर्गत अब वह सरकारी बंगले के आवंटन या उसे जारी रखने की हकदार नहीं रह जातीं।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai

  • Font Size
  • Close