श्रीनगर। Pulwama Terror Attack की आज पहली बरसी है। पूरा देश आज के दिन उन शहीदों को नमन कर रहा है जिन्होंने आज ही के दिन हुए कायराना और भीषण आतंकी हमले में शहादत पाई थी। आज के दिन इन्हीं शहीदों के सम्मान में एक शहीद स्मारक राष्ट्र के नाम समर्पित किया गया। यह स्मारक स्थल लिथपोरा स्थित सीआरपीएफ शिविर में है। इस कार्यक्रम में एकमात्र मेहमान थे उमेश गोपीनाथ जाधव। उमेश के यहां होने का खास कारण था और वो कारण था उमेश द्वारा पिछले एक साल में किया गया सफर जिसमें उन्होंने हमले में शहीद हुए 40 जवानों के घर जाकर उनके घर की मिट्टी एकत्रित की।

यह है उनकी यात्रा की कहानी

दरअसल, उमेश उस दिन अपने कॉन्सर्ट पूरे कर बेंगलुरु लौट रहे थे तभी जयपुर एयरपोर्ट पर आतंकी हमले की खबरें टीवी पर देखी। इसके बाद उन्होंने इन शहीदों के परिवारों के लिए कुछ करने की ठानी और फिर शुरू की 61,000 किमी की वो यात्रा जिसमें वो हर शहीद के परिजनों से मिले। उनकी यह यात्रा पिछले हफ्ते ही खत्म हुई है।

उमेश के अनुसार, मैंने पूरा 2019 उन शहीदों के दहलीज की मिट्टी एकत्रित करने में गुजारा है जो आतंकी हमले में शहीद हुए थे। उमेश के अनुसार उनका यह सफर काफी कठीन था लेकिन जो मर्तबान वो लेकर पहुंचे थे उसमें उन शहीदों के घरों की मिट्टी थी जो उनके लिए सबकुछ था।

उमेश के अनुसार, हम साथ में रोए, हमने साथ में खाना खाया और खुश भी हुए। उन शहीदों के परिवारों से मिलने गौरवपूर्ण अनुभव है। किसी ने बेटा खोया तो किसी ने पति, तो किसी बच्चे के सिर से पिता का साया उठ गया। मुझ उन परिवारों का आशीर्वाद मिला।

पेशे से फॉर्माकोलॉजिस्ट रहे उमेश महाराष्ट्र के रहने वाले हैं और उन्होंने बाद में म्यूजिक की दुनिया को चुना। वो अक्सर कॉन्सर्ट्स के लिए घूमते रहते हैं।

Posted By: Ajay Barve

fantasy cricket
fantasy cricket