Punjab Haryana Budget 2020: पंजाब और हरियाणा के बजट एक ही दिन पेश होने जा रहे हैं। पंजाब में जहां कांग्रेस की कैप्टन अमरिंदर सिंह की सरकार है, वहीं हरियाणा में भाजपा की मनोहर खट्टर की सरकार है। बीते दिनों दिल्ली विधानसभा चुनाव पर दोनों राज्यों की पैनी नजर रही। यहां तक कि मनोहर खट्टर ने तो राजधानी में जाकर पार्टी के लिए प्रचार भी किया था। बहरहाल, नतीजों में न भाजपा की चली, न कांग्रेस की। आम आदमी पार्टी ने एकतरफा जीत दर्ज की। इन नतीजों का असर दोनों प्रेदेशों के बजट पर पड़ेगा। दिल्ली में मुख्यममंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल खोलकर लोगों को मुफ्त चीजें दी। बिजली से लेकर पानी और इंटरनेट तक का बोझ काम किया गया। चुनाव नतीजों के बाद कहा गया कि सारे मुद्दों पर केजरीवाल की यह घोषणाएं भारी रहीं।

पंजाब में पैरा पसार सकती है AAP

दिल्ली में प्रचंड जीत दर्ज जीत करने के बाद पंजाब वह अगला राज्य हो सकता है जहां आम आदमी पार्टी अपनी ताकत दिखाएगी। 2017 के विधानसभा चुनावों में आम आदमी पार्टी ने बड़ा दांव खेला था। पार्टी ने सांसद भगवंत मान के नेतृत्व में 117 सीटों पर चुनाव लड़ा था, लेकिन महज 20 सीज पर जीत दर्ज की थी। पार्टी को 23.7 फीसदी वोट मिले थे। इस तरह आम आदमी पार्टी को अपने विस्तार की उम्मीदों को बड़ा झटका लगा था, लेकिन इस जीत के बाद पार्टी एक फिर विस्तार करने की तैयारी में है।

हरियाणा में कमजोर है AAP

हरियाणा में 2019 में हुए विधानसभा चुनावों में भी आम आदमी पार्टी ने दम लगाया था और उम्मीदवार खड़े किए थे, लेकिन पार्टी को कामयाबी हासिल नहीं हुई। कुल 90 सीटों में से भाजपा ने 40, कांग्रेस ने 30 और जेजेपी ने 10 सीटें जीती थीं। बाद में भाजपा ने जेजेपी के साथ मिलकर सरकार बना ली थी।

Posted By: Arvind Dubey