मॉन्ट द मार्सन। देश में राफेल फायटर जेट लाने की तैयारी है वहीं फ्रांस में वायुसेना की टीम मौजूद है। भारतीय वायुसेना के वाइस एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया ने इस फायटर जेट का टेस्ट भी लिया है। वो यहां हो रहे गरुड़ 6 युद्धाभ्यास के लिए मौजूद हैं। इस दौरान उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि वायुसेना में राफेल और सुखोई-30 का मेल दुश्मनों पर कहर बरपाएगा।

उन्होंने कहा, भारतीय वायुसेना की राफेल और सुखोई 30 एमकेआई की संयुक्त कार्रवाई की योजना सफल रही तो वह पाकिस्तान समेत सभी दुश्मन देशों पर युद्ध में कहर बरपाएगी।

वायुसेना उपाध्यक्ष ने कहा, राफेल और सुखोई 30 के एक साथ हमले के लिए तैयार होने पर पाकिस्तान 27 फरवरी जैसा जवाबी हमला करने से डरेगा। बालाकोट पर भारतीय वायुसेना की बमबारी के अगले दिन पाकिस्तानी वायुसेना ने भारतीय सीमा में घुसकर जवाबी कार्रवाई की कोशिश की थी लेकिन वह असफल रही थी।

एयर मार्शल भदौरिया ने कहा, दोनों लड़ाकू विमानों का संयुक्त कार्रवाई पाकिस्तान ही नहीं दुनिया की किसी भी देश पर भारी पड़ेगी। यह खास तरह की तकनीक वाले लड़ाकू विमानों का समन्वय होगा। तब पाकिस्तान को 27 फरवरी जैसी कार्रवाई के दौरान भारी नुकसान उठाना पड़ेगा। कुछ महीनों बाद भारतीय वायुसेना के पास लंबी दूरी तक मार करने वाले बेहतर हथियार होंगे।

एयर मार्शल भदौरिया 36 राफेल विमानों की खरीद प्रक्रिया से सन 2016 से जुड़े हुए हैं। उल्लेखनीय है कि 14 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर जैश-ए-मुहम्मद आतंकी के आत्मघाती हमले में 40 जवान शहीद हुए थे। इसी के बाद भारत ने बालाकोट के आतंकी शिविर पर हमला किया था।