भुवनेश्वर। एक सीनियर इंडियन रेलवे ट्रैफिर सर्विस (IRTS) ऑफिसर का अपनी बहन के लिए मैट्रिमोनियल साइट पर योग्य वर ढूंढना कई लोगों को धोखाधड़ी से बचा गया। उन्होंने एक 'फर्जी दूल्हे' को जेल की हवा खिला दी।

नागपुर में IRTS ऑफिसर अनूप कुमार सत्पथी के इनपुट्स पर नयापाली पुलिस ने रविवार को एक शख्स बिरंची नाथ को गिरफ्तार किया जिसकी अलग-अलग मैट्रिमोनियल साइट्स पर फर्जी प्रोफाइल थी और खुद को कभी डॉक्टर, मेडिकल प्रोफेसर बताता था।

मैट्रिमोनियल साइट पर 38 साल के शादीशुदा और दो बच्चों के पिता नाथ ने सत्पथी के सामने खुद को एम्स दिल्ली के न्यूरोसर्जन के रूप में परिचय दिया। रेलवे पीएसयू के कंटेनर कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया के चीफ जनरल मैनेजर सत्पथी ने कहा, 'मैनें एम्स में मेरे संपर्कों के जरिए उसके बारे में पता किया तो समझ आया कि वह झूठ बोल रहा है। उसने साइट पर फर्जी फोटो अपलोड की थी। मैंने उसे कॉल किया और खूब डांटा।'

यह मामला यहीं खत्म नहीं हुआ। कुछ दिनों बाद, सत्पथी का फिर से नाथ से एक अन्य मैट्रिमोनियल साइट पर आमना-सामना हुआ, जहां आरोपी ने खुद को भुबनेश्वर में मेडिकल प्रोफेसर बताया।

सत्पथी ने कहा, 'दूसरी बार हमने बात की तो नाथ ने खुद को दूल्हे के पिता के रूप में पेश किया। फोन पर बात करते हुए मुझे महसूस हुआ कि मैं उसी फर्जी शख्स से बात कर रहा हूं जिसको पिछली बार मैंने फटकारा था। कुछ मिनट बात करने के बाद, मुझे यकीन हो गया और मैंने उसे इस तरह के फर्जी काम के लिए कानूनी कार्रवाई करने की चेतावनी दी। उसने तुरंत फोन रख दिया और स्विच ऑफ कर दिया।'

दोनों एक बार फिर मैचमेकिंग पोर्टल पर ऑनलाइन मिले। सत्पथी ने पाया कि अब नाथ खुद को इंडियन रेवेन्यू ऑफिसर बतौर पहचान दे रहा है। उन्होंने कहा, 'इस बार, मैंने उसे सबक सिखाने का फैसला किया। जब मैंने उससे संपर्क किया और नाथ ने भुबनेश्वर के एक होटल में मेरी बहन से मिलने के लिए जोर दिया तो मैं मान गया लेकिन मैंने पुलिस को सूचना दे दी।'

डीसीपी अनुप कुमार साहु ने कहा कि हमने जाल बिछाया और होटल के पास नाथ को अरेस्ट कर लिया। उन्होंने कहा कि नाथ भुबनेश्वर में एक वकील के असिस्टेंट बतौर काम करता है। हम पता कर रहे हैं कि मैट्रिमोनियल साइट्स के जरिए उसने और किसे धोखा दिया है।