Rajasthan News: राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बागी विधायकों के नाराजगी पर अपनी बात रखी। साथ ही पायलट गुट पर निशाना साधा। आज (रविवार) एक समारोह में महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि देने के बाद जब उनसे पूछा गया कि सब ठीक है। इसके जवाब में उन्होंने कहा, 'कांग्रेस के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है। एक लाइन का प्रस्ताव पारित नहीं हुआ। मुझे दुख इस बात का है कि प्रस्ताव पारित नहीं करवा पाया। मैंने माफी भी मांगी, लेकिन आखिरकार ये स्थिति क्यों आई।'

गहलोत ने कहा

अशोक गहलोत ने कहा कि जब मैंने गोविंद डोटासरा को विधायकों को समझाने के लिए भेजा था। तब बागी एमएलए इस बात से खफा थे कि मैंने उनसे 2020 में वादा किया था। मैं उनका अभिभावक बनूंगा। विधायक इस बात से नाराज थे कि राज्य में अकेले रहने से उनका क्या होगा। MLAs दल का नेता होने के नाते जो हुआ, उसके लिए मैं जिम्मेदार हूं। गौरतलब है कि 2020 में सचिन पायलट ने 18 विधायकों के साथ बगावत कर दी थी। आलाकमान के दखल देने के बाद पायलट गुट को मनाया गया था।

कांग्रेस और गांधी परिवार का डीएनए एक- शशि थरूर

शशि थरूर के सुर अध्यक्ष का उम्मीदवार बनते ही बदल गए हैं। कहा कि गांधी परिवार और कांग्रेस का डीएनए एक है। पार्टी की ऐतिहासिक भूमिका रही है। जिसमें महात्मा गांधी व नेहरू परिवार के लोगों ने बड़े रोल निभाए। कोई भी अध्यक्ष इतना बेवकूफ नहीं कि गांधी परिवार को अलविदा बोले। गांधी परिवार बड़ा एसेट है।

खड़गे का राज्यसभा से इस्तीफा

मल्लिकार्जुन खड़गे ने राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है। उनकी जगह नए नेता की तलाश शुरू हो गई। इसी सदन में आकर सरकार विपक्ष के एकजुट हमले होने पर फंसती है। यहां संख्याबल बराबरी का है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इसके लिए पी चिदंबरम, मुकुल वासनिक, जयराम रमेश और दिग्विजय सिंह का नाम दावेदारों में है।

Posted By: Kushagra Valuskar

Assembly elections 2021
elections 2022
  • Font Size
  • Close