अयोध्‍या में रामलीला का आरंभ शनिवार को हो गया है। यह आयोजन 25 अक्‍टूबर तक चलेगा। दिग्गज कलाकारों के अभिनय से सजी नौ दिवसीय (17 से 25 अक्टूबर) रामलीला आयोजन में कोरोना संकट के चलते दर्शकों को आने की अनुमति नहीं दी गई है। इसका प्रसारण डीडी नेशनल पर प्रतिदिन सायंकाल 7 से रात्रि 10 बजे तक किया जाएगा। अन्य चैनलों व You Tube पर भी दर्शक इसे देख सकेंगे। पुण्य सलिला सरयू के तट पर स्थित लक्ष्मण किला परिसर में फिल्मी सितारों से सज्जित वर्चुअल रामलीला शनिवार को शुरू हो गई। इसका आगाज गणेश वंदना के बाद शिव-पार्वती संवाद से हुआ, जिसमें असरानी व अन्य दिग्गज अभिनेताओं ने अपने अभिनय कौशल की अमिट छाप छोड़ी। भगवान राम के वनगमन मार्ग के विभिन्न पड़ावों की मिट्टी से निर्मित उनकी मूर्ति आस्था के केंद्र में थी। श्रीराम की इस नयनाभिराम मूर्ति का उद्घाटन से पूर्व विधिविधान से पूजन किया गया।रामलीला की प्रस्तुति के लघु विराम के दौरान गोस्वामी जी राजा रामचंद्र की जय का जयकारा लगवाते थे। इस जयघोष के पीछे उनका मकसद यह बताना था कि हमारे राजा रामचंद्र हैं न कि तलवार के बल पर जनता पर शासन करने वाले आक्रांता मुगल शासक हैं।

उत्तर प्रदेश के संस्कृति मंत्री नीलकंठ तिवारी ने इस वर्चुअल रामलीला का उद्घाटन किया। उन्होंने कहा कि 15वीं शताब्दी में गोस्वामी तुलसीदास ने काशी और उसके आस-पास के गांव में रामलीला की अलख जगाई। उद्घाटन सत्र में रामलीला कमेटी के संरक्षक एवं दक्षिण दिल्ली के सांसद प्रवेश साहिब सिह वर्मा, अभिनेता बिदु दारा सिह एवं अवतार गिल सहित डीडी नेशनल के महानिदेशक मयंक अग्रवाल ने भी विचार रखे। उद्घाटन सत्र में लक्ष्मण किलाधीश महंत मैथिलीरमण शरण, अयोध्या शोध संस्थान के निदेशक वाईपी सिह, रामलीला के निर्देशक सुभाष मलिक आदि मौजूद रहे।

टीवी पर अयोध्या की राम लीला देख रहे परिवार

कोरोना के चलते कई आयोजन नहीं हो रहे, जिसमें रामलीला भी शामिल है। लेकिन लोगों को राम की लीला के साथ जोड़ने के लिए अब टीवी पर राम की लीला का सीधा प्रसारण अयोध्या से हो रहा है। पहले ही दिन लोगों ने परिवारों सहित राम की लीला का मंचन देखा, जिससे स्थानीय स्तर पर लगने वाली रामलीला की कमी लोगों को महसूस नहीं हुई। यह प्रसारण 17 अक्टूबर से 25 अक्टूबर दशहरे वाले दिन तक चलेगा।

फाजिल्का में तीन जगहों पर रामलीला का आयोजन किया जाता था, लेकिन इस बार कोरोना वायरस महमारी के चलते श्री सेवा समिति राम लीला, श्री बाला जी रामलीलाक्ल व देश प्रदेश रामलीला कमेटी द्वारा रामलीला का मंचन नहीं किया जा रहा। धोबीघाट मोहल्ला निवासी हैप्पी कपूर व रजनी कपूर ने बताया कि हर बार वह रामलीला के आयोजन के लिए जाते हैं। लेकिन इस बार रामलीला का आयोजन ना होने के चलते बच्चे काफी मायूस थे। भले ही फाजिल्का के कलाकारों को इस बार मंचन करते ना देखा जाए, लेकिन टीवी पर प्रसारित रामलीला के जरिए बच्चे इस बार हर उस दर्शय को देख पाएंगे, जिसे वह केवल पांच दिन ही देखते थे। वहीं प्रीत गुगलानी ने कहा कि वैसे तो रामलीला के हर दर्शय के बारे में पता है, लेकिन मंचन देखने का अहसास कुछ और ही है। भले ही इस बार रामलीला का मंचन नहीं हो रहा। लेकिन टीवी के जरिए वह पूरी रामलीला के मंचन को देखेंगे।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020