नई दिल्ली। शानदार जलवायु का प्रभाव कृषि क्षेत्र पर दिखने लगा है। रबी फसलों की रिकॉर्ड पैदावार के बाद अब बागवानी फसलों के उत्पादन का आंकड़ा भी खुशखबरी लेकर आया है। देश में इस बार प्याज और टमाटर की कीमतों में आग नहीं लगेगी। दोनों की बंपर पैदावार के चलते पूरे साल उनकी कीमत काबू में रहेंगी।

फलों और सब्जियों की पैदावार में तीन फीसद से भी अधिक की अपेक्षित वृद्धि दर्ज की गई है। कृषि मंत्रालय की ओर से मंगलवार को बागवानी फसलों के उत्पादन का दूसरा एडवांस एस्टीमेट जारी किया गया है, जो यह उम्मीद जताने के लिए काफी है कि इस साल फलों पर महंगाई की मार नहीं पड़ेगी।

इसके मुताबिक इस बार फल, सब्जी, सुगंधित पौधे, जड़ी-बूटी व फूलों का उत्पादन बढ़ा है। लिहाजा, इनकी कीमतें कम होने से आम लोगों तक फलों और सब्जियों की आसानी से पहुंच रहेगी। वहीं, प्लांटेशन फसलों और मसालों के उत्पादन में कमी आई है। चालू बागवानी सीजन 2019-20 के दौरान कुल उत्पादन, पिछले साल के मुकाबले 3.13 फीसद अधिक होने का अनुमान है।

सब्जियों में सबसे अधिक संवेदनशील माने जाने वाले प्याज की पैदावार 2.67 करोड़ टन होने का अनुमान लगाया गया है, जो पिछले साल 2.28 करोड़ टन ही था। टमाटर की पैदावार में रिकॉर्ड 8.2 फीसद की वृद्धि का अनुमान है। पिछले साल के 1.90 करोड़ टन की तुलना में इस बार 2.06 करोड़ टन टमाटर पैदावार का अनुमान है।

हार्टिंकल्चर विभाग के अनुमान के मुताबिक, फलों का उत्पादन 9.91 करोड़ टन हुआ है, जबकि पिछले साल 9.79 करोड़ टन हुआ था। फलों में केला, सेब, खट्टे फल और तरबूज के उत्पादन में शानदार वृद्धि दर्ज की गई है। चालू बागवानी वर्ष 2019-20 के दौरान सब्जियों की अनुमानित पैदावार 19.18 करोड़ टन है।

साल 2018-19 में सब्जियों का उत्पादन 19.32 करोड़ टन था। प्याज, टमाटर, भिंडी, हरी मटर और आलू आदि सब्जियों की पैदावार में वृद्धि हुई है।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना