गणतंत्र दिवस भाषण 2021: Republic Day Speech 2021: भारत 26 जनवरी 2021 को अपना 72 वां गणतंत्र दिवस मनाने के लिए तैयार है। इस दिन 15 अगस्त 1947 को स्वतंत्रता प्राप्त करने के बाद 1950 में भारतीय संविधान को अपनाया गया था। भारत में, गणतंत्र दिवस एक त्‍योहार से कम नहीं है, पूरे देश में जाति, पंथ, धर्म की परवाह किए बिना खुशी के साथ मुस्कराते हैं। इस दिन, पूरे देश को यह बताने के लिए तिरंगा यात्रा में शामिल किया जाता है कि भारत एक ऐसा राष्ट्र है जहाँ 'अनेकता में एकता' मनाई जाती है। गणतंत्र दिवस पर भाषण एक अहम बात है क्योंकि यह लोगों की मानसिकता को प्रभावित कर सकता है। इस बार का गणतंत्र दिवस बहुत ही खास होने वाला है। बीता साल पूरी तरह से कोरोना संक्रमण की चपेट में था, जिसकी वजह से स्वतंत्रता दिवस के आयोजन प्रभावित हुए। अब देश में कोरोना नियंत्रण में है और स्वदेशी वैक्सीन भी सफलतापूर्वक काम कर रही है। 10 महीनों से बंद पड़े शैक्षणिक संस्‍थान अब खुल रहे हैं, इसलिए इस बार गणतंत्र दिवस का आयोजन पारंपरिक उत्साह के साथ स्कूलों, कॉलेजों में किया जाएगा। अगर आप इस साल 26 जनवरी को कहीं देने जा रहे हैं और आपको तैयारी के लिए समय नहीं मिला है, तो आप बिल्कुल चिंता न करें। हम यहां आपको कुछ आसान और छोटे भाषण के तरीके बताने जा रहे हैं। 26 जनवरी, गणतंत्र दिवस, जिन छात्रों और शिक्षकों को स्कूल कार्यक्रम में भाषण देना होता है, वे अक्सर एक सप्ताह पहले ही इसकी तैयारी शुरू कर देते हैं। लंबे भाषणों में कुछ समय जरूर लगता है, लेकिन अगर आप छोटे भाषण देना चाहते हैं तो जान लें कि इसकी तैयारी कैसे करें।

इन 10 विषयों पर आप भाषण दे सकते हैं, लिख सकते हैं निबंध

1. भारत गणराज्य और संविधान का अर्थ

2. भारतीय गणतंत्र के संविधान को बनने में 2 साल, 11 महीने का समय लगा।

3. हमारे राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे के इतिहास को जानें

4. भारत का संविधान दुनिया का सबसे बड़ा लिखित संविधान है, जानिए इसकी खास बातें

5. गणतंत्र दिवस पर पहली परेड 1955 में आयोजित की गई थी, तब से परंपरा कायम है।

6. देश का पूरा संविधान गाथ से लिखा गया था

7. स्वतंत्र भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद का पहला भाषण

8. गणतंत्र बनने के बाद ही 1950 में वंदे मातरम को राष्ट्रगान का दर्जा दिया गया था

9. हर राष्ट्रीय त्योहार पर ध्वज पूजा के नियम और कानून क्या हैं

10. जानिए किस समय और किस स्थान पर आधा झुका हुआ झंडा फहराया जाता है।

भाषण की भूमिका में इन बिंदुओं में शामिल करें

हमारे गणतंत्र दिवस का महत्व क्या है?

पूरे भारत में लोग 26 जनवरी को देश का गणतंत्र दिवस मनाते हैं। यह दिन आधिकारिक राजपत्रित अवकाश है। यह याद करने का दिन है कि भारत का संविधान 26 जनवरी 1950 को लागू हुआ, जिससे देश एक स्वतंत्र गणराज्य बना।

इसे गणतंत्र दिवस क्यों कहा जाता है?

26 जनवरी 1950 को भारत का संविधान लागू हुआ। 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप में चुना गया था क्योंकि यह 1929 में इसी दिन भारतीय स्वतंत्रता (भारतीय स्वराज) की घोषणा की गई थी, जो डोमिनियन के विपरीत भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस द्वारा घोषित किया गया था।

भाषण के दौरान, इन बातों को विशेष रूप से कहें

हमारे संविधान के बनने की कहानी भी कोई कम दिलचस्प नहीं है। हर कोई जानता है कि यह 2 साल, 11 महीने और 18 दिनों में तैयार किया गया था।

- प्रेम बिहारी नारायण रायज़ादा ने संविधान की मूल प्रति लिखी। यह पांडुलिपि हस्तलिखित प्रारूप में थी।

- संविधान लिखने में 6 महीने लगे। कहीं भी टाइपिंग या प्रिंटिंग का कोई फायदा नहीं था।

- जब 26 जनवरी 1950 को संविधान लागू किया गया था, तब इसमें कुल 395 लेख, 8 अनुसूचियाँ थीं। 22 भाग थे।

संविधान निर्माण समिति में कुल 284 सदस्य थे। उन्होंने 24 नवंबर 1949 को संविधान पर हस्ताक्षर किए। इन सदस्यों में 15 महिलाएं थीं।

- हमारे संविधान की हस्तलिखित पांडुलिपि एक विशेष प्रकार के चर्मपत्र पर तैयार की गई थी। कहा जाता है कि यह 1 हजार से अधिक वर्षों तक सुरक्षित रह सकता है। यह सूक्ष्मजीवों या दीमक से कोई नुकसान नहीं पहुंचाएगा। पांडुलिपि में पृष्ठों की संख्या 234 है, जिसका वजन कुल 13 किलोग्राम है।

गणतंत्र दिवस का इतिहास और रोचक बातें

गणतंत्र दिवस (Republic Day) भारत का एक राष्ट्रीय पर्व है। जिसे हर साल 26 जनवरी को मनाया जाता है। इस दिन साल 1950 को भारत सरकार अधिनियम 1935 को हटाकर भारत का संविधान लागू किया गया। एक स्वतंत्र गणराज्य बनने और कानून स्थापित करने संविधान को 26 नवंबर 1949 को भारतीय संविधान सभा ने अपनाया था। जबकि 26 जनवरी 1950 को लोकतांत्रिक सरकार प्रणाली के साथ लागू किया गया। इसके बाद से हर साल इस दिन गणतंत्र दिवस (Republic Day) मनाया जाता है। इस दिन देश में राष्ट्रीय अवकाश भी रहता है।

देश के प्रथम राष्ट्रपति डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद ने 21 तोपों की सलामी के साथ राष्ट्र ध्वज को फहराकर भारत को पूर्ण गणतंत्र घोषित किया। इस मौके पर उन्होंने देश के नागरिकों को विशेष संदेश में कहा था कि हमें आज के दिन के शांतिपूर्ण एक ऐसे सपने को साकार करने के लिए खुद को समर्पित करना चाहिए। जिसने हमारे राष्ट्र पिता और स्वतंत्रता संग्राम के कई नेताओं और सैनिकों को अपने देश में एक वर्गहीन, सहकारी, मुक्त और प्रसन्नचित्त समाज की स्थापना के सपने को साकार करने की प्रेरणा मिली। हमें इस दिन यह याद रखना चाहिए कि आज का दिवस आनंद मनाने की तुलना में समर्पण का दिन है। श्रमिकों, कामगारों परिश्रमियों और विचारकों को पूरी तरह से स्वतंत्र, खुश और सांस्कृतिक बनाने के भव्य कार्य के प्रति समर्पण करने का दिन है।

क्‍या था पूर्ण स्वराज दिवस

31 दिसंबर 1929 को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की लाहौर में एक बैठक हुई थी। जिसकी अध्यक्षता पंडित जवाहर लाल नेहरू ने की थी। उस बैठक में मौजूद लोगों ने 26 जनवरी को स्वतंत्रता दिवस के रूप में मानने के लिए शपथ ली थी, ताकि अंग्रेजों से पूर्ण आजादी के सपने पूरे हो सके। लाहौर सत्र में नागरिक अवज्ञा आंदोलन का मार्ग प्रशस्त किया गया। यह निर्णय लिया गया कि 26 जनवरी 1930 को पूर्ण स्वराज दिवस मनाया जाएगा। कई भारतीय राजनीतिक दलों और क्रांतिकारियों ने सम्मान और गर्व से इस दिन को मनाने के लिए हामी भरी। भारतीय संविधान सभा की पहली बैठक 9 दिसंबर 1946 को हुई। जिसका गठन भारतीय नेताओं और ब्रिटिश कैबिनेट मिशन के बीच हुआ। इस सभा का उद्देश्य देश को एक संविधान प्रदान करना था। कई सिफारिशों पर चर्चा, विवाद और संविधान को अंतिम रूप देने से पहले कई बार संशोधन किया गया। आखिरकार तीन साल बाद 26 नवंबर 1949 को आधिकारिक रूप से अपनाया गया। 26 जनवरी 1950 को भारतीय संविधान प्रभावी हुआ।

गणतंत्र दिवस से जुड़ी कुछ रोचक बातें

- 26 जनवरी 1950 को सुबह 10 बजकर 18 मिनट पर भारत का संविधान लागू हुआ था।

- गणतंत्र दिवस (Republic Day) के दिन राष्ट्रगान के दौरान 21 तोपों की सलामी दी जाती है।

- 1955 में पहली बार राजपथ परेड में पाकिस्तान के पहले गर्वनर जनरल मलिक गुलाम मोहम्मद मुख्य अतिथि थे।

- पहले गणतंत्र दिवस की परेड मेजर ध्यानचंद स्टेडियम में हुई थी।

- भारत का संविधान दुनिया का सबसे बड़ा लिखित संविधान है। जिसे दिन में पढ़ा नहीं जा सकता।

- भारतीय संविधान में 395 अनुच्छेद और 8 अनुसूचियां हैं।

- गणतंत्र दिवस के दिन अशोक चक्र और कीर्ति चक्र जैसे सम्मान दिए जाते हैं।

- साल 1950 को पहले गणतंत्र दिवस (Republic Day) पर इंडोनेशिया के राष्ट्रपति सुकर्णो मुख्य मेहमान थे।

- अबतक साल 1951, 1952, 1953, 1956, 1957, 1959, 1962, 1964, 1966,1967, 1970 में कोई विदेश मेहमान नहीं आए थे। इस साल 2021 में भी कोरोना वायरस के कारण कोई मुख्य अतिथि गणतंत्र दिवस पर मेहमान नहीं होंगे।

- साल 2014 के गणतंत्र दिवस (Republic Day) पर महाराष्ट्र सरकार के प्रोटोकॉल विभाग ने पहली बार मुंबई के मरीन ड्राईव पर परेड आयोजित की थी।

ऐसे करें भाषण और निबंध की तैयारी

सुप्रभात,

हम सभी आज अपने देश के 72 वें गणतंत्र दिवस का जश्न मनाने के लिए यहां एकत्रित हैं। यह घटना हम में से प्रत्येक के लिए एक बहुत ही अद्भुत और प्रशंसनीय घटना है। इस घटना के दिन, हमें अपने देश को बढ़ाने और हम सभी का स्वागत करने के लिए ईश्वर से प्रार्थना करनी चाहिए। हम 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाते हैं क्योंकि भारत का संविधान 1950 में इसी दिन लागू हुआ था। भारत एक बहुत ही लोकतांत्रिक और न्यायपूर्ण राष्ट्र है जहाँ प्रत्येक नागरिक को उस नेता को चुनने की अनुमति है जो राष्ट्र का नेतृत्व करने का हकदार है। हालांकि अब तक कई सुधार हुए हैं, लेकिन इसके साथ कुछ गिरावट भी आई है, जैसे कि बेरोजगारी, साक्षरता की कमी, प्रदूषण, गरीबी, और इसी तरह। आज हम इस देश के लोगों को एक साथ इस प्रकार के मुद्दों को हल करने का वादा कर सकते हैं ताकि यह देश दुनिया के सर्वश्रेष्ठ देशों में से एक बन सके।

2. गणतंत्र दिवस हमें हमारे संघर्ष की याद दिलाता है, कैसे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (आईएनसी) ने युवाओं की मदद से पूर्ण स्वराज की मांग को प्राप्त किया। स्वतंत्रता के लिए संघर्ष कुछ उच्च सिद्धांतों और विचारों पर आधारित था, जैसे कि - अहिंसा, सहयोग, गैर-भेदभाव, आदि। इसी कारण से, सभी भारतीयों द्वारा गणतंत्र दिवस बड़े उत्साह और भव्यता के साथ मनाया जाता है। यह भारत के संविधान में निहित पवित्र मूल्यों की भी याद दिलाता है, यह राष्ट्रीय गौरव का दिन है। गणतंत्र दिवस परेड पर भव्य सेना का प्रदर्शन हमें याद दिलाता है कि हमारी क्षेत्रीय संप्रभुता की सुरक्षा कई बलिदानों का परिणाम है।

26 जनवरी के लिए लघु निबंध

गणतंत्र दिवस एक ऐसा दिन है जो पूरे देश में उत्साह से मनाया जाता है। यह हम भारतीयों के लिए संवैधानिक महत्व का है। यह हमारे संविधान के कार्यान्वयन का दिन है। यह हमारे लिए बहुत खास है क्योंकि देश की संवैधानिक प्रणाली इसके द्वारा शासित है। 26 जनवरी 1950 से, यह हर साल लगातार मनाया जाता रहा है। इससे पहले, देश में लंबे समय तक अंग्रेजों का शासन था। वर्षों की गुलामी के बाद, हमारा देश 15 अगस्त, 1947 को आखिरकार स्वतंत्र हो गया। तीन साल बाद, इसे पूरी तरह से लोकतांत्रिक देश का दर्जा भी मिला। देश में हमारा कानून चलता है। पहले, ब्रिटिश कानून काम करता था। भारतीय संविधान देश की संसद द्वारा इस दिन 2 वर्ष 11 महीने और 18 दिन पूरे करने के बाद पारित किया गया था। इसके बाद, भारत ने खुद को लोकतांत्रिक गणराज्य घोषित किया। यह दिन हमारे लोकतांत्रिक मूल्यों का केंद्र है। हमें दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के नागरिक होने का गौरव प्राप्त है।

जय हिंद जय भारत

_

हिंदी में लघु भाषण

आदरणीय मुख्य अतिथि, शिक्षक और मेरे सभी प्रिय मित्रों, सबसे पहले, मैं आपको गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं देता हूं। आज हम 72 वां गणतंत्र दिवस मना रहे हैं। यह दिन हम सभी के लिए अपने राष्ट्र का सम्मान करने का दिन है। गणतंत्र का मतलब है कि देश के लोगों को देश के विकास के लिए अपने राजनीतिक नेताओं का चुनाव करने का अधिकार है।

हम देश के नागरिक भी इसके विकास के लिए जिम्मेदार हैं। हमारा देश 15 अगस्त 1947 को ब्रिटिश शासन से मुक्त हो गया। लेकिन संविधान 26 जनवरी 1950 को लागू हुआ। इसलिए, हम हर साल उस दिन को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाते हैं। भारत में विविधता में एकता दिखाने के लिए विभिन्न भारतीय राज्यों द्वारा भारतीय संस्कृति और परंपरा का एक बड़ा प्रदर्शन भी किया जाता है।

इस भाषण को समाप्त करने से पहले, मैं आपको गणतंत्र दिवस के बारे में अपनी भावनाओं को व्यक्त करने का अवसर देने के लिए आप सभी को धन्यवाद देना चाहता हूं, और मुझे एक भारतीय होने पर गर्व है जहां हमें सभी प्रकार की स्वतंत्रता है।

________

26 जनवरी स्कूली बच्चों के लिए लघु भाषण

सबसे पहले मैं हमारे सम्मानित प्रधानाचार्य, मेरे शिक्षकों, मेरे सीनेटरों और सहकर्मियों को सुप्रभात कहना चाहूंगा। आइए आपको इस खास मौके के बारे में कुछ बताते हैं। आज हम अपने राष्ट्र का 71 वां गणतंत्र दिवस मना रहे हैं। 1947 में भारत की आजादी के ढाई साल बाद 1950 में इसे मनाया जाना शुरू हुआ। हम इसे हर साल 26 जनवरी को मनाते हैं क्योंकि हमारा संविधान उसी दिन लागू हुआ था। 1947 में ब्रिटिश शासन से आजादी के बाद, भारत एक स्व-शासित काउंटी नहीं था जिसका मतलब एक संप्रभु राज्य था। 1950 में जब भारत का संविधान लागू हुआ, तो भारत एक आत्मनिर्भर देश बन गया। आज हमें गर्व है कि हम दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक राष्ट्र के नागरिक हैं।

जय हिंद जय भारत

________

शिक्षकों के लिए संक्षिप्त भाषण

आज के कार्यक्रम के माननीय मुख्य अतिथि, सम्मानित प्राचार्य, साथी शिक्षक, माता-पिता और मेरे सभी प्रिय मित्रों। इस बार हम भारत का 72 वां गणतंत्र दिवस मना रहे हैं यही कारण है कि हम यहां एकत्र हुए हैं। आज मैं गणतंत्र की मिट्टी के बारे में कुछ शब्द कहने जा रहा हूं, जो सभी भारतीय नागरिकों के लिए बहुत खास दिन है।

भारत हर साल 1950 से 26 जनवरी तक गणतंत्र दिवस मनाता है क्योंकि भारत को इस दिन एक गणतंत्र देश घोषित किया गया था और साथ ही साथ भारत का संविधान लंबे वर्षों के संघर्ष के बाद लागू हुआ था। भारत को 1947 में 15 अगस्त को स्वतंत्रता मिली और ढाई साल बाद यह डेमोक्रेटिक रिपब्लिक बना। भारत में गणतंत्र दिवस का इतिहास में बहुत महत्व है क्योंकि यह भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों के प्रत्येक संघर्ष के बारे में बताता है। विविधता में एकता इस देश की मूलभूत पहचान है। हमें गर्व है कि हम ऐसे संवैधानिक राष्ट्र के नागरिक हैं।

आप सभी को गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं।

_______

Republic Day Speech 2021: This time Republic Day is going to be very special. The past year was completely vulnerable to corona infection, which affected the events of independence. The corona is now under control in the country and the indigenous vaccine is also working successfully. Schools have been closed for 10 months, so this time Republic Day will be organized in schools, colleges with traditional enthusiasm. If you are going to give somewhere on 26 January this year and you have not got time for preparation, then you do not worry at all. We are going to tell you some easy and short speech methods here. On January 26, Republic Day, students and teachers who have to give speeches in the school program often start preparing for it a week in advance. Long speeches do take some time, but if you want to give short speeches then know how to prepare for it.

You can give speeches, write essays on these 10 topics

1. Republic of India and the meaning of the Constitution

2. It took 2 years, 11 months to make the constitution of Indian Republic.

3. Know the history of our national flag tricolor

4. The Constitution of India is the largest written constitution in the world, know its special features

5. The first parade on Republic Day was held in 1955, the tradition has continued since then.

6. The entire constitution of the country was written from Gath

7. First speech of Dr. Rajendra Prasad, the first President of independent India

8. Vande Mataram was given the status of national anthem in 1950 only after it became a republic.

9. What are the rules and laws of flag worship on every national festival

10. Know at what time and at which place the half-tilted flag is hoisted.

These points in the role of speech include

What is the importance of our Republic Day?

People across India celebrate Republic Day of the country on 26 January. The day is an official gazetted holiday. It is a day to remember that the Constitution of India came into force on 26 January 1950, making the country an independent republic.

Why is it called Republic Day?

The Constitution of India came into force on 26 January 1950. 26 January was chosen as Republic Day because it was the day on which Indian Independence (Bharatiya Swaraj) was declared in 1929, which was declared by the Indian National Congress, unlike Dominion.

During the speech, say these things specifically, the listener will keep listening.

The story of the formation of our Constitution is also no less interesting. Everyone knows that it was prepared in 2 years, 11 months and 18 days.

Prem Bihari Narayan Raizada wrote the original copy of the constitution. This manuscript was in handwritten format.

- It took 6 months to write the constitution. There was no use of typing or printing anywhere.

When the Constitution was enacted on 26 January 1950, it had a total of 395 Articles, 8 Schedules. There were 22 parts.

The constitution building committee had a total of 284 members. He signed the constitution on 24 November 1949. There were 15 women among these members.

- The handwritten manuscript of our constitution was prepared on a special type of parchment. It is said that it can be safe for more than 1 thousand years. It will not cause any harm from microorganisms or termites. The manuscript has 234 pages, weighing a total of 13 kg.

History and interesting things of Republic Day

Republic Day is a national festival of India. Which is celebrated every year on 26 January. On this day in 1950, the Constitution of India was enacted by removing the Government of India Act 1935. The constitution was adopted by the Indian Constituent Assembly on 26 November 1949 to become an independent republic and to establish laws. Whereas on 26 January 1950 it was implemented with the democratic government system. Since then, Republic Day is celebrated on this day every year. This day is also a national holiday in the country.

The first President of the country, Dr. Rajendra Prasad, declared India a full republic by hoisting the national flag with a 21-gun salute. On this occasion, he had said in a special message to the citizens of the country that we should dedicate ourselves to realize such a peaceful dream to this day. Which inspired our father and many freedom fighters and soldiers to realize the dream of establishing a classless, cooperative, free and happy society in our country. We should remember on this day that today's day is more a day of dedication than a celebration of joy. It is a day of dedication to the grand task of making workers, workers, laborers and thinkers completely independent, happy and cultural.

What was full swaraj day

On 31 December 1929, the Indian National Congress had a meeting in Lahore. Which was presided over by Pandit Jawaharlal Nehru. Those present at that meeting took an oath to observe January 26 as Independence Day, so that the dreams of complete independence from the British could be fulfilled. The Lahore session paved the way for the Civil Disobedience Movement. It was decided that full Swaraj Day would be celebrated on 26 January 1930. Many Indian political parties and revolutionaries agreed to celebrate the day with respect and pride. The first meeting of the Indian Constituent Assembly was held on 9 December 1946. Which was formed between the Indian leaders and the British Cabinet Mission. The purpose of this assembly was to provide a constitution to the country. Several recommendations were discussed, disputed and amended several times before the constitution was finalized. It was finally adopted officially on 26 November 1949, three years later. The Indian Constitution came into force on 26 January 1950.

Speech & Essay Ideas

1. Good Morning,

All of us are gathered here to celebrate the 72nd Republic Day of our country today. This event is a very wonderful and praising event for each one of us. In this eventful day, we should pray to god to enhance our country and welcome everyone of us. We observe Republic day on 26 January because the Constitution of India came to force on this day in 1950.

India is a very democratic and just nation where each citizen is allowed to choose the leader who deserves to lead the nation. Although there have been many improvements till now, few deteriorations have also come with it, such as unemployment, lack of literates, pollution, poverty, and so on. All we can do is promise today to solve this type of issues together as people of this nation to make this country one of the best nations in the world.

2. Republic Day reminds us of our struggle, how the Indian National Congress (INC) with the help of youths achieved its demand of Purn Swaraj. The struggle for freedom was based on some high principles and ideas, such as – non-violence, cooperation, non-discrimination, etc. For this reason, Republic Day is celebrated by all the Indians with great zeal and grandeur.

It also reminds us of the sacred values enshrined in the Constitution of India, it is a day of national pride. Display of grand military on the Republic Day parade reminds us that the security of our territorial sovereignty is the outcome of many sacrifices.

Some interesting things related to Republic Day

The Constitution of India came into force on 26 January 1950 at 10:18 am.

- 21 gun salute is given during the National Anthem on Republic Day.

The first Governor General of Pakistan, Malik Ghulam Mohammed, was the chief guest at the Rajpath parade for the first time in 1955.

- First Republic Day parade was held at Major Dhyanchand Stadium.

- The Constitution of India is the largest written constitution in the world. Which cannot be read during the day.

Indian Constitution has 395 Articles and 8 Schedules.

On Republic Day, honors like Ashoka Chakra and Kirti Chakra are given.

- President Sukarno of Indonesia was the chief guest on the first Republic Day on 1950.

Till now, in the years 1951, 1952, 1953, 1956, 1957, 1959, 1962, 1964, 1966,1967, 1970, no foreign guests had come. In 2021 this year, no chief guests will be guests on Republic Day due to the corona virus.

- On Republic Day, 2014, the Protocol Department of the Government of Maharashtra organized a parade for the first time on Marine Drive in Mumbai.

Short essay for 26 January

Republic Day is a day that is celebrated enthusiastically throughout the country. This is of constitutional importance for us Indians. It is the day of the implementation of our Constitution. This is very special for us because the constitutional system of the country is governed by it. Since 26 January 1950, it has been celebrated continuously every year. Earlier, the country was ruled by the British for a long time. After years of slavery, our country finally became independent on August 15, 1947. Three years later, it also gained the status of a fully democratic country. Our law operates in the country. Previously, British law worked. The Indian Constitution was passed by the country's Parliament after completing 2 years 11 months and 18 days on this day. Subsequently, India declared itself a democratic republic. This day is the center of our democratic values. We have the distinction of being citizens of the world's largest democracy.

Jay Hind

_

Short speech in hindi

Respected Chief Guest, teacher and all my dear friends, first of all, I wish you a very Happy Republic Day. Today we are celebrating the 72nd Republic Day. This day is a day for all of us to honor our nation. Republic means that the people of the country have the right to elect their political leaders for the development of the country.

We citizens of the country are also responsible for its development. Our country became free from British rule on 15 August 1947. But the Constitution came into force on 26 January 1950. Therefore, we celebrate that day every year as Republic Day. A large display of Indian culture and tradition is also performed by various Indian states to show unity in diversity in India.

Before concluding this speech, I would like to thank all of you for giving me the opportunity to express my feelings about Republic Day, and I am proud to be an Indian where we have all kinds of freedom.

________

26 January Short speech for school children

First of all I would like to say good morning to our esteemed Principal, my teachers, my senators and colleagues. Let us tell you something about this special occasion. Today we are celebrating the 71st Republic Day of our nation. It began to be celebrated in 1950, two and a half years after India's independence in 1947. We celebrate it every year on 26 January because our Constitution came into force on the same day. After independence from British rule in 1947, India was not a self-governing county which meant a sovereign state. When the Constitution of India came into force in 1950, India became a self-sufficient country. Today we are proud that we are citizens of the largest democratic nation in the world.

Jay Hind

________

Short speech for teachers

Honorable Chief Guest of today's program, respected principal, fellow teachers, parents and all my dear friends. This time we are celebrating the 72nd Republic Day of India that is why we have gathered here. Today I am going to say a few words about the soil of the Republic, which is a very special day for all Indian citizens.

India celebrates Republic Day every year from 1950 to 26 January as India was declared a Republic country on this day and at the same time the Constitution of India came into force after long years of struggle. India gained independence on August 15 in 1947 and two and a half years later it became a Democratic Republic. Republic Day in India has great importance in history as it tells about each struggle of Indian freedom fighters. Unity in diversity is the basic identity of this country. We are proud that we are citizens of such a constitutional nation.

Happy Republic Day to all of you.

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags