वाराणसी। PM Narendra Modi: PM Narendra Modi ने अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में रहने वाले एक रिक्शा चालक मंगल केवट को शुभकामना संदेश भेजा है। दरअसल इस रिक्शा चालक की बेटी का विवाह था और उसने PM Modi को निमंत्रण पत्र भेजा था। गुरुवार को पीएम मोदी का पत्र केवट परिवार के पास पहुंचा जिसमें पीएम ने उन्हें बेटी की शादी पर बधाई दी। इसके अलावा पीएम ने पूरे परिवार को आशीर्वाद और शुभकामनाएं दी है। केवट परिवार को उम्मीद नहीं थी कि PM की ओर से कोई प्रतिक्रिया आएगी, लेकिन पीएम मोदी का शुभकामना पत्र पाकर परिवार में खुशी का माहौल है।

वाराणसी के पास डोमरी गांव निवासी मंगल केवट रिक्शा चलाते हैं। जयपुरा के अलावा ये गांव भी पीएम मोदी ने गोद लिया हुआ है। बीते दिनों उनकी बेटी का विवाह था जिसका निमंत्रण उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी भेजा था। दरअसल मंगल केवट ने अपने कुछ मित्रों की सलाह पर पीएम को निमंत्रण भेजा था। मंगल ने एक निमंत्रण पत्र दिल्ली और एक उनके वाराणसी कार्यालय भेजा था। इसके बाद बेटी की शादी से कुछ घंटे पहले ही पीएम की तरफ से शुभकामना पत्र आया है।

ये बताया मंगल ने

मंगल केवट ने कहा- हमारा गांव पीएम ने गोद लिया है। बेटी की शादी का न्योता हमने पूरे गांव को दिया। कुछ मित्रों की सलाह पर मैंने पीएम मोदी को नई दिल्ली और वाराणसी में निमंत्रण भेजा। हमें उम्मीद नहीं थी कि पीएम मोदी की ओर से कोई संदेश या प्रतिक्रिया आएगी, पर हमें उनका शुभकामना पत्र मिला। हम बहुत खुश हैं। उनके शुभकामना पत्र को लेकर हमारे पूरे परिवार और रिश्तेदारों में खासा उत्साह है। सभी उनके शुभकामना पत्र को देखकर उत्साहित हो रहे हैं। मैं अपनी बेटी की शादी में आए मेहमानों को भी पीएम मोदी की ओर से भेजे गए इस पत्र को दिखा रहा हूं।

मंगल केवट के बारे में जानिए

रिक्शा चालक मंगल केवट के बारे में बता दें कि वे गंगा नदी के काफी बड़े भक्त हैं और अपनी कमाई का एक हिस्सा में गंगा नदी के पूजा पाठ और उसकी सफाई में भी खर्च करते हैं। इसके अलावा वे स्वप्रेरणा से बनारस शहर में स्थित महापुरुषों की प्रतिमाओं को स्नान कराने का काम करते हैं। वे स्वच्छ भारत अभियान में भी काफी सक्रिय भागीदारी करते हैं। वे बनारस के राजघाट क्षेत्र में रहते हैं। सदस्यता अभियान के दौरान पीएम मोदी ने उन्हें भाजपा का सदस्य बनाया था। पिछले साल वे रिक्शा चलाकर पीएम मोदी से मिलने नई दिल्ली जाने के लिए जिला अधिकारी से अनुमति मांगने पहुंचे थे।

Posted By: Rahul Vavikar

fantasy cricket
fantasy cricket