नई दिल्ली। भाजपा की वरिष्ठ नेता, कुशल वक्ता और कद्दावर राजनेता के अचानक निधन से भारतीय राजनीति में एक शून्य पैदा हो गया है। उनके निधन का समाचार मिलते ही विभिन्न दलों के राजनेताओं ने उनको भावभिनी श्रद्धांजलि दी।

दिल्ली से सांसद गौतम गंभीर ने कहा कि सुषमा स्वराज भाजपा की वयोवृद्ध नेता और भाजपा की एक स्तंभ थी। वह सभी को स्नेह देती थी। वह मदद करने वाली राजनेता के रूप में पहचानी जाएगी। वह बेहतरीन प्रशासक, उम्दा सांसद और अविस्मरणीय वक्ता थी। मेरी संवेदना उनके परिवार के साथ है।

उपराष्ट्रपति और राज्यसभा के सभापति वैकेया नायडू ने कहा कि सुषमा स्वराज का निधन देश के लिए एक बड़ी क्षति है और साथ ही यह मेरे लिए व्यक्तिगत क्षति भी है। मेरी संवेदनाएं शोकग्रस्त परिवार के साथ है।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविद ने कहा कि मैं उनके अचानक निधन से स्तब्ध हूं। उनका निधन देश के लिए बड़ी क्षति है। देश ने एक बहुत ही प्रिय नेता को खो दिया है जिसने सार्वजनिक जीवन में गरिमा, साहस और अखंडता का परिचय दिया। वह लोगों की मदद के लिए हमेशा तैयार रहती थी।

केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत ने कहा कि सुषमा जी के निधन की दुखदायी खबर प्राप्त हुई। उनका अचानक ऐसे चले जाना अविश्वसनीय है। एक प्रखर वक़्ता और ओजस्वी नेता पूर्व विदेश मंत्री स्वराज जी का निधन देश की और मेरी व्यक्तिगत क्षति है। ईश्वर उन्हें मोक्ष प्रदान करें व उनके परिजनों को यह अपार दुख सहन करने की शक्ति दें। ॐ शांति

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि पूर्व विदेश मंत्री श्रीमती सुषमा स्वराज जी के आकस्मिक निधन की खबर ने मुझे स्तब्ध कर दिया हैं। ईश्वर उनकी दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करें तथा उनके परिजनों को इस भारी दुःख को सहन करने की शक्ति दे।

भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने कहा कि पूर्व विदेश मंत्री, वरिष्ठ नेत्री, दीदी सुषमा स्वराज जी के आकस्मिक निधन से मन अत्यंत पीड़ित है। नका निधन भाजपा एवं देश की राजनीति के लिए एक अपूर्णीय क्षति है। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें एवं शोकाकुल परिवार को दुःख सहने की शक्ति दे।

दीदी सुषमा स्वराज जी अपने राजनीतिक एवं सामाजिक जीवन में अनेकों दायित्वों पर रहते हुए अंतिम समय तक राष्ट्र सेवा में लगी रहीं। जब से वो राजनीतिक जीवन में आयी तब से लेकर, विपक्ष की नेता, विदेश मंत्री रहने तक हमेशा एक आदर्श व्यक्तित्व का उदाहरण समाज के सामने रखा।