Delhi: आरएसएस चीफ मोहन भागवत गुरुवार सुबह दिल्ली के केजी मार्ग पर स्थित मस्जिद पहुंचे और अखिल भारतीय इमाम संगठन के चीफ इमाम उमैर इलियासी से मुलाकात की। डॉ. इलियासी ने बताया कि मोहन भागवत उनके निमंत्रण पर वहां पहुंचे थे। उन्होंने कहा कि हमारी पूजा-पाठ का तरीका अलग हो सकता है, लेकिन इंसानियत सबसे बड़ा धर्म है। उन्होंने कहा कि हम मानते हैं कि वतन सबसे पहले आता है। इस मुलाकात के दौरान भागवत के साथ गोपाल कृष्ण और आरएसएस नेता इंद्रेश कुमार भी मौजूद थे। लगभग 40 मिनट तक चली इस मुलाकात में कई मुद्दों पर सौहार्द्रपूर्ण वातावरण में बातचीत हुई।

मदरसे में गये मोहन भागवत

दिल्ली में मस्जिद में बैठक के बाद मोहन भागवत आज़ाद मार्किट के मदरसे में भी गए। यहां आरएसएस चीफ मोहन भागवत ने मदरसे के बच्चों से मुलाक़ात की और उनकी पढ़ाई के बारे में भी जाना। मोहन भागवत पहली बार किसी मदरसे में पहुंचे थे। तजविदुल कुरान मदरसा दिल्ली के आज़ाद मार्केट में मौजूद है, जहां 300 बच्चे पढ़ते हैं।

मोहन भागवत ने मस्‍ज‍िद में बैठक के बाद केजी मार्ग स्थित मस्जिद के इमाम उमैर इलियासी के पिता जमील इलियासी के मजार की जियारत भी की। आज जमील इलियासी की बरसी भी है। ज़ियारत के बाद मोहन भागवत ने इमाम के परिवार से मुलाकात भी की।

इस पूरी मुलाकात और मदरसे में बिताए वक्त को लेकर इमाम उमर इलियासी ने कहा यह परिवारिक मुलाकात भी थी। मोहन भागवत का यहां आना यह संदेश है कि हम सब एक हैं और हमें मिलकर रहना चाहिए। उनके यहां आने से एक अच्छा मैसेज जाएगा। यह मोहब्बत का संदेश है। उन्होंने सबको एक करने की बात कही है। उनकी जिम्मेदारी भी है कि उस सब को साथ लेकर चलें, देश की एकता अखंडता बनी रहे और सब मिलजुल कर रहें।

Posted By:

  • Font Size
  • Close