नई दिल्ली। भोपाल से भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर का बयान एक बार फिर पार्टी के लिए मुश्किल बना है। साध्वी ने हाल ही में कहा था कि वह शौचालय साफ करने के लिए चुनाव जीतकर लोकसभा नहीं पहुंची हैं। खबर है कि प्रज्ञा की इस टिप्पणी पर भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने नाराजगी जाहिर की है।

पार्टी सूत्रों के मुताबिक, साध्वी को भाजपा मुख्यालय बुलाया गया था, जहां नड्डा ने उन्हें पार्टी नेतृत्व की नाराजगी के बारे में बताया। नड्डा ने प्रज्ञा की खिंचाई की और उन्हें भविष्य में ऐसे बयान से बचने की हिदायत दी।

यह था प्रज्ञा ठाकुर का पूरा बयान

प्रज्ञा ठाकुर ने सिहोर में कहा था, 'यह ध्यान में रखें ... हम यहां नाला साफ करने नहीं आए हैं। यह स्पष्ट है? निश्चित रूप से हम यहां आपके शौचालयों को साफ करने के लिए नहीं हैं। हमसे जिस काम की अपेक्षा की जाती है और जिसके लिए हम चुने गए हैं, हम उसे ईमानदारी से करेंगे। हम यह पूर्व में भी कह चुके हैं, आज फिर दोहरा रहे हैं और भविष्य में भी इस पर कायम रहेंगे।'

पहली बार नहीं...

यह पहला मौका नहीं है जब प्रज्ञा ठाकुर का बयान उनके लिए मुश्किल बना है। इससे पहले लोकसभा चुनाव के दौरान उन्होंने महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त करार दिया था। हालांकि बाद में उन्होंने माफी मांगी थी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कहना पड़ा था कि वे प्रज्ञा को माफ नहीं कर पाएंगे। प्रज्ञा ने महाराष्ट्र के एटीएस प्रमुख हेमंत करकरे पर भी विवादित बयान दिया था।

ओवैसी ने कहा, मोदी के कार्यक्रम का विरोध है बयान

इस बीच, AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि भाजपा सांसद प्रज्ञा का बयान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यक्रम का विरोध है। उनके बयान से कोई हैरत नहीं है। वह भेदभाव करने वाला बयान देती रही हैं। यह उनकी विचार प्रक्रिया है और यह दुर्भाग्यपूर्ण है।

यहां भी क्लिक करें

23 जुलाई को कर्क राशि में प्रवेश करेगा शुक्र, 12 राशियों पर इस तरह पड़ेगा इसका असर

बिजली महादेव : जहां शिवलिंग पर हर बारह साल में गिरती है बिजली

 

रेल यात्री ध्यान दें, 139 छोड़ बंद होंगे सारे हेल्पलाइन नंबर, अब मिलेगी यह सुविधा

Posted By: Arvind Dubey

Assembly elections 2021
elections 2022
  • Font Size
  • Close