सम्भल। संभल में बुधवार शाम करीब पौने पांच बजे दो सिपाहियों की हत्या कर तीन कैदी फरार हो गए। गोलाबारी में दोनों पुलिस कर्मियों की मौत मौके पर ही हो गई। मृतक दोनों सिपाही बिजनौर के रहने वाले थे। वारादात की सूचना मिलते ही एसपी सम्भल यमुना प्रसाद ने पुलिसबल के साथ इलाके को चारों तरफ से घेर लिया और फरार कैदियों की तलाश शुरू कर दी। फरार तीनों कैदी साल 2014 से हत्या के मामले में जेल में बंद थे।

कांस्टेबल खूब सिंह के अनुसार मुरादाबाद जेल में बंद 24 कैदियों को बुधवार को चन्दौसी कोर्ट में पेश करने की जिम्मेदारी मिली थी। इसके तहत पुलिस कर्मी कैदियों को वैन में लेकर चन्दौसी कोर्ट गए थे। वहां सभी की पेशी हुई। इसके बाद कैदियों को पुलिस वैन में मुरादाबाद जेल ले जाया जा रहा था।

इस वैन में कुल छह पुलिस कर्मी सवार थे। जब कैदी वाहन सम्भल के बनियाठेर थाना क्षेत्र स्थित देवाखेड़ा गांव के समीप पहुंचा था। तभी तीन कैदी वैन में मौजूद सिपाहियों से भिड़ गए। उन्होंने सिपाहियों का असलहा छीन लिया और कांस्टेबल हरेंद्र सिंह व ब्रजपाल पर गोलियों की बौछार कर दी। पुलिस कर्मी मौके पर ही ढेर हो गए। इधर तीनों कैदी वैन का ताला तोड़ फरार हो गए। वह अपने साथ पुलिस का असलहा भी ले गए हैं।

घटना से इलाके में दहशत

मृत कांस्टेबल हरेंद्र व ब्रजपाल का शव मुरादाबाद भेजा गया है। घटना से पूरे क्षेत्र में दहशत व्याप्त है। फरार कैदियों के संबंध में सूचनाएं जुटाई जा रही हैं। आइजी रमित शर्मा घटना स्थल के लिए रवाना हो गए हैं। मुरादाबाद से भी फोर्स घटना स्थल पर भेजी गई है। मृत पुलिस कर्मी हरेंद्र एवं ब्रजपाल सम्भल पुलिस लाइन में तैनात थे।

बाग में छिपे हुए हैं बदमाश

घटना की सूचना पाकर एडीजी भी गजरौला रवाना हो गए हैं। बताया जा रहा है कि बदमाशों ने सिपाहियों की आंखों में मिर्ची झोंककर घटना को अंजाम दिया। वे योजना बनाकर अपने साथियों को छुडाने आए थे। बदमाश एक बाग में छिपे हैं। पुलिस ने चारों तरफ से बाग को घेर रखा है।

फरार कैदियों के नाम कमल सिंह पुत्र जंगबहादुर निवासी रम्पुरा थाना बहजोई, शकील पुत्र नूर मोहम्मद निवासी रम्पुरा थाना बहजोई, धर्मपाल सिंह पुत्र देशराज निवासी भरतपुर थाना बहजोई है।