कोलकाता। Saradha Chitfund scam : सारधा चिटफंड घोटाले में साक्ष्य नष्ट करने के आरोपित कोलकाता के पूर्व पुलिस आयुक्त राजीव कुमार की अग्रिम जमानत याचिका शनिवार को अलीपुर कोर्ट ने खारिज कर दी।

इससे पहले गुरुवार को CBI ने राजीव कुमार के खिलाफ गैर जमानती धारा के तहत गिरफ्तारी वारंट जारी करने के लिए अलीपुर कोर्ट के अतिरिक्त जिला न्यायाधीश के समक्ष आवेदन किया था।

जहां दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद अदालत ने राजीव कुमार के आवेदन को खारिज करते हुए CBI को उन्हें गिरफ्तार करने की इजाजत दी थी।

CBI की छापामारी जारी

दूसरी तरफ राजीव कुमार की तलाश में CBI की छापामारी जारी है। CBI ने अब CID मुख्यालय में तलाशी अभियान चलाया। इसके अलावा कोलकाता समेत आसपास के जिलों में रिसोर्ट व होटलों में छापामारी की गई। CBI की एक टीम उत्तर प्रदेश में राजीव के पैतृक आवास पर भी जा पहुंची, लेकिन वहां भी सफलता नहीं मिली।

राजीव के वकील ने दी यह दलील

गिरफ्तारी से बचने के लिए राजीव कुमार ने अलीपुर कोर्ट में अग्रिम जमानत याचिका दायर की थी। शनिवार को मामले की सुनवाई के दौरान उनके अधिवक्ता ने कहा कि सारधा मामले में CBI द्वारा पेश की गई चार्जशीट में कहीं भी राजीव कुमार का नाम नहीं है। लाल डायरी की बात कही जा रही है, जिसे सिर्फ मीडिया द्वारा ही सुना गया है। मामले में आरोपित देवयानी के यहां भी कोई डायरी नहीं मिली।

राजीव कुमार का फोन बंद

CBI ने अदालत को बताया कि राजीव कुमार का फोन बंद है। यहां तक कि राज्य सरकार को भी उनके ठिकाने के बारे में पता नहीं है और वे अपने आवास पर भी नहीं हैं। राजीव कुमार को कई बार पूछताछ के लिए नोटिस दिया गया, लेकिन वह हाजिर नहीं हुए।