SBI के ग्राहक ध्यान दें। 10 फरवरी 2020 से दो बदलाव लागू हो रहे हैं। हाल ही में इनका ऐलान किया गया था। एक नियम से ग्राहकों को फायदा है तो दूसरे से नुकसान। देश के सबसे बड़े इस सरकारी बैंक ने ब्याज दरें सस्ती कर दी हैं, लेकिन लगे हाथ एफडी यानी फिक्स डिपॉजिट पर ब्याज दरें कम कर के ग्राहकों को झटका भी दे दिया है। एसबीआई ने लगातार नौवें वित्त वर्ष 2019-20 के लिए मार्जिनल कॉस्ट ऑफ लेंडिंग रेट (एमसीएलआऱ) में कटौती की घोषणा की है। बैंक ने एमसीएलआर में पांच बीपीएस की कमी का ऐलान किया है। अब यह दर 7.90 प्रतिशत से घटकर 7.85 प्रतिशत सालाना हो गई है। नई दरें 10 फरवरी 2020 से लागू होंगी। इससे ग्राहकों को फायदा होगा क्योंकि वे अब सस्ती दर पर होम लोन और ऑटो लोन ले सकेंगे। गौरतलब है कि गुरुवार को भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं करने की घोषणा की। रेपो रेट 5.15 फीसदी पर बना हुआ है, फिर भी SBI ने MCLR में कटौती की है।

आरबीआई का कहना है कि रेपो रेट में बढ़ोतरी नहीं की गई है, ताकि कर्ज को बढ़ावा दिया जा सके। RBI ने बैंकों को कैश रिजर्व रेशो (CRR) में कटौती करने की छूट दी है, जो जुलाई 2020 तक लागू रहेगी।

10 फरवरी से ये रहेंगी FD की ब्याज दरें

46 दिनों से 179 दिनों में मैच्यॉर होने वाली एफडी के लिए ब्याज दर में 50 बेसिस पॉइंट (बीपीएस) की कटौती की गई है। अब, इन जमाओं पर 5% की ब्याज दर मिलेगी। 180 दिनों से लेकर 210 दिनों तक और 211 दिनों से 1 वर्ष से कम समय में मैच्यॉर होने वाली एफडी के लिए अब 5.50% की ब्याज दर देगा। पहले इन डिपॉजिट पर 5.80% ब्याज दिया जा रहा था। बैंक ने 1 वर्ष से 10 वर्षों में मैच्यॉर होने वाली जमा पर 10 बीपीएस की ब्याज दर घटा दी है। पहले इन पर 6.10% ब्याज मिलता था, जो अब घटकर 6% रह गया है।

  • 7 दिन से 45 दिन पर 4.50% ब्याज
  • 46 दिन से 179 दिन पर 5.00% ब्याज
  • 180 दिन से 210 दिन पर 5.50% ब्याज
  • 211 दिन से 1 वर्ष से कम पर 5.50% ब्याज
  • 1 वर्ष से कम 2 वर्ष पर 6.00% ब्याज
  • 2 साल से कम 3 साल पर 6.00% ब्याज
  • 3 साल से 5 साल से कम पर 6.00% ब्याज
  • 5 साल और 10 साल तक पर 6.00% ब्याज

Posted By: Arvind Dubey

fantasy cricket
fantasy cricket