Shaheen Bagh : सीएए और एनआरसी के विरोध में 70 दिनों से शाहीन बाग में प्रदर्शन कर रहे लोगों में मतभेद होने लगे हैं। दो महीने बाद शनिवार शाम करीब नोएडा-फरीदाबाद को जोड़ने वाली सड़क खुल गई, लेकिन कुछ देर बाद ही यह दोबारा बंद हो गई। प्रदर्शनकारियों का एक ग्रुप रोड नंबर 9 से हट गया, जिसके बाद यहां से आवाजाही शुरू हो गई। कुछ ही देर बाद प्रदर्शनकारियों के दूसरे ग्रुप ने आकर रोड को दोबारा बंद कर दिया।

इससे पहले, वार्ताकार रामचंद्रन लगातार चौथे दिन शनिवार सुबह शाहीन बाग पहुंचीं और रास्ता खोलने के लिए समझाया। इस पर प्रदर्शनकारियों ने सात मांगे रखते हुए कहा कि जब तक सीएए वापस नहीं लिया जाता, तब तक रास्ते को खाली नहीं किया जाएगा। सुबह 10.30 बजे पहुंची रामचंद्रन ने कहा कि यदि मार्ग नहीं खुला तो हम आपकी मदद नहीं कर पाएंगे। हम प्रदर्शन खत्म करने को नहीं कह रहे हैं। उन्होंने कहा कि मैं यहां सरकार की ओर से नहीं आई हूं। हम सुप्रीम कोर्ट से कहेंगे की आपको सुरक्षा दी जाए।

आपको एक पार्क दे दिया जाएगा, जहां पर आप प्रदर्शन को जारी रख सकते हैं हालांकि, वार्ताकार की इस बात का सभी प्रदर्शनकारियों ने एक स्वर में खंडन कर दिया। प्रदर्शनकारियों ने कहा, हमारी मांग है कि यदि आध्ाी सड़क खुलती है तो सुरक्षा और एल्युमिनियम शीट चाहिए। साथ ही शाहीनबाग के लोगों और जामिया के विद्यार्थियों पर दर्ज किए गए मुकदमें वापस लिए जाने चाहिए।

70 दिनों से चल रहा प्रदर्शन : वार्ताकार साध्ाना ने प्रदर्शन स्थल से निकलते समय मीडिया से कहा कि यहां आने को लेकर वकील संजय हेगड़े से बात की जाएगी। जाहिर है 70 दिनों से सीएए और एनआरसी को लेकर विरोध प्रदर्शन चल रहा है और जिसकी वजह से जिस रास्ते पर प्रदर्शन हो रहा है उससे आसपास के लोगों को दिक्कत हो रही है।

Posted By: Navodit Saktawat

fantasy cricket
fantasy cricket