नई दिल्ली Small Savings Scheme । कोरोना महामारी के बीच केंद्र सरकार छोटे निवेशकों को बड़ी राहत दी है। केंद्र सरकार ने 2021-22 की दूसरी तिमाही के लिए National Savings Certificates और Public Provident Fund सहित छोटी बचत योजनाओं पर ब्याज दरों में बदलाव नहीं किया है। चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही (जुलाई से सितंबर) में केंद्र सरकार ने NSC पर 6.8 फीसदी और पीपीएफ पर 7.1 प्रतिशत सालाना की ब्याज दर देने का फैसला किया है। इसके अलावा Post Office मासिक आय योजना अकाउंट पर 6.6 प्रतिशत ब्याज मिलेगा। Sukanya Samriddhi Yojana पर सालाना ब्‍याज दर 7.6 प्रतिशत है।

वित्त मंत्रालय ने जारी की अधिसूचना

वित्त मंत्रालय ने अधिसूचना जारी करके कहा है कि वित्त वर्ष 2021- 22 की 1 जुलाई 2021 को शुरू होकर 30 सितंबर 2021 को समाप्त होने वाली दूसरी तिमाही के दौरान सभी छोटी बचत योजनाओं पर ब्याज दर मौजूदा पहली तिमाही (1 अप्रैल 2021 से 30 जून 2021) में लागू दरों पर ही बनी रहेंगी।

पहली तिमाही में ब्याज में हुई थी कटौती

केंद्र सरकार ने 1 अप्रैल को पहली तिमाही के लिए छोटी बचत योजनाओं की ब्याज दर में 1.1 प्रतिशत की कटौती कर दी थी, लेकिन बाद में सरकार गलती सुधारते हुए इसे वापस कर दिया था। गौरतलब है कि बीते कई दशकों में इसे सबसे बड़ी कटौती बताया था।

गौरतलब है कि सरकार हर तिमाही में छोटी बचत योजनाओं पर ब्याज दरों की समीक्षा करती है। दूसरी तिमाही के दौरान 1 साल की fixed deposit योजना पर बयाज दर 5.5 फीसदी पर बनी रहेगी। साथ ही कन्या बचत योजना ‘सुकन्या स्मृद्धि योजना खाते’ पर 7.6 प्रतिशत सालाना की दर से ब्याज मिलता रहेगा। 5 साल की वरिष्ठ नागिरक बचत योजना पर 7.4 प्रतिशत ब्याज दिया जाएगा और बचत जमा पर ब्याज का प्रतिशत 4 फीसदी सालाना बना रहेगा।

Posted By: Sandeep Chourey