मथुरा Srikrishna birthplace case श्रीकृष्ण के जन्मस्थान को लेकर चल रहे विवाद के बीच मथुरा की कोर्ट ने फैसला सुना दिया है। श्रीकृष्ण जन्मस्थान से शाही मस्जिद ईदगाह हटाने को लेकर दायर दावा बुधवार को सुनवाई के बाद सिविल जज सीनियर डिवीजन छाया शर्मा की अदालत ने खारिज कर दिया। कोर्ट ने कहा कि वाद चलाने के लिए पर्याप्त आधार नहीं माना। अब वादी पक्ष इस मामले में हाई कोर्ट में अपील करने का फैसला किया है।

8 पक्षकारों ने दायर की थी याचिका

श्रीकृष्ण विराजमान व अधिवक्ता रंजना अग्निहोत्री समेत आठ पक्षकारों ने सिविल जज सीनियर डिवीजन की अदालत में गत 25 सितंबर को दावा दायर किया था। बुधवार सुबह रंजना अग्निहोत्री और अन्य वादी अपने अधिवक्ता हरिशंकर जैन और विष्णु शंकर जैन के साथ अदालत पहुंचे। मामले में दोपहर 2.35 बजे शुरू हुई सुनवाई करीब 22 मिनट तक चली।

बाहरी लोगों ने क्यों दायर की याचिका - कोर्ट

वादी के अधिवक्ता हरिशंकर जैन ने बताया कि अदालत ने बाहरी लोगों द्वारा दावा दायर करने पर आपत्ति जताई। इस पर उन्होंने तर्क दिया कि भगवान सबके हैं। इसलिए कोई भी दावा दायर कर सकता है। अदालत ने ये कहकर दावा खारिज कर दिया कि केस चलाने के लिए पर्याप्त आधार नहीं है। वादी के अधिवक्ता विष्णुशंकर जैन ने बताया कि हम मामले को लेकर हाई कोर्ट में अपील करेंगे।

Posted By: Sandeep Chourey