Sushant Singh Rajput की मौत को 48 घंटे से अधिक वक्‍त बीत चुका है लेकिन इस खबर पर अभी भी विश्‍वास करना कठिन है। सुशांत के प्रशंसकों के लिए तो यह बड़ा झटका है ही, परिवार के लिए यह कभी ना भरने वाला गम है। परिवार का कहना है कि सुशांत की मौत की खबर का सदमा उनकी चचेरी भाभी सहन ना कर सकी और सोमवार शाम बदहवासी की हालत में उन्‍होंने भी दम तोड़ दिया। सुशांत के परिजनों के लिए यह दूसरी बुरी खबर है। परिजन का कहना है कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत का गम उनकी चचेरी भाभी सुधा देवी बर्दाश्त नहीं कर पाईं। इस सदमे में सोमवार दोपहर में उनकी मौत हो गई। सुशांत की मौत की खबर मिलते ही रविवार से उन्होंने खाना-पीना त्याग दिया था। वह सुशांत सिंह के चचेरे भाई अमरेंद सिंह की पत्नी थीं। परिजनों ने बताया कि बीते कुछ समय से वह बीमार थीं। रविवार को जैसे ही सुशांत राजपूत की मौत की खबर आई, उसके बाद से वह बार-बार बेहोश हो जाती थीं। सोमवार शाम करीब पांच बजे उन्होंने अंतिम सांस ली।

पटना के राजीव नगर में गम में रो रहे हैं लोग

सुशांत सिंह राजपूत ने रविवार को मुंबई के बांद्रा स्थित अपने फ्लैट में सुसाइड कर लिया था। इसके बाद पूरे देश में शोक की लहर दौड़ गई है। बिहार के पूर्णिया स्थित उनके पैतृक गांव मलडीहा तथा पटना के राजीव नजर इलाके में लोगों काे गम में रोते हुए भी देखा जा रहा है। इन दोनों जगहों से सुशांत के बचपन की यादें जुड़ीं हैं। उनके खगडि़या स्थित ननिहाल में भी मातम का माहौल है।

पिता गहरे सदमे में, भाभी की भी तबीयत बिगड़ी

सुशांत की मौत की खबर मिलने के बाद पटना में रहने वाले उनके पिता केके सिंह (KK Singh) गहरे सदमे में चले गए तो पूर्णिया के पैतृक गांव में चचेरी भाभी सुधा देवी भी अवाक रह गईं। खबर सुनकर बीते कुछ समय से बीमार चल रहीं सुधा देवी की हालत बिगड़ गई। सदमें में वे बार-बार बेहोश होने लगीं। स्‍वजनों ने उन्हें सांत्‍वना दी तथा चिकित्सक को भी दिखाया, लेकिन उनपर कोई असर नहीं पड़ा। होश में आते ही वे सुशांत के बारे में पूछतीं कि वह ठीक है कि नहीं। फिर, घर पर जब लोगों की भीड़ देखतीं तो बेहोश हो जातीं थीं।

Posted By: Navodit Saktawat