Tanishq Ad Controversy अहमदाबाद। गुजरात कच्‍छ के गांधीधाम में तनिष्‍क के शोरुम पर हमला व तोडफोड की खबर को फेक न्‍यूज बताते हुए सरकार ने जांच के आदेश दिये हैं। एक अन्‍य विवाद पर ग्रहराज्‍यमंत्रीप्रदीपसिंह जाडेजा ने कहा कि गुजरात में एक भी मंदिर को बंद नहीं किया गया है। ख्‍यातनाम ज्‍वैलरी कंपनी तनिष्‍क के विज्ञापन को लेकर हुए चल रहे विवाद के बीच गुजरात सरकार ने स्‍पष्‍ट किया है कि कच्‍छ के गांधीधाम में तनिष्‍क के शोरूम पर हमला व तोडफोड की खबर पूरी तर‍ह बेबुनियाद है। इस तरह की फेक न्‍यूज फैलाने वालों के खिलाफ सख्‍त कानूनी कार्यवाही की जाएगी।

राज्‍य सरकार का मानना है कि तनिष्‍क विज्ञापन विवाद को सांप्रदायिक रंग देने के लिए ही ऐसी अफवाह फैलाई गई जिसकी जांच के आदेश राज्‍य के ग्रह मंत्रालय की ओरसे जारी कर दिये गये हैं। गौरतलब है कि स्‍थानीय व कुछ नेशनल मीडिया में तनिष्‍क के गांधीधाम शोरूम पर गत शनिवार को कुछ लोगों के हमला कर मैनेजर से माफीनामा लिखाने की खबरें दिखाईगई थी।

महाराष्‍ट्र में कोरोना महामारी के बीच मंदिरों को बंद रखने के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे के फैसले की खिलाफत कर रही भाजपा की गुजरात सरकार ने स्‍पष्‍ट किया है कि राज्‍य में किसी भी मंदिर को बंद नहीं किया गया है। कोरोना महामारी के बीच धार्मिक मंदिर व स्‍थानों पर कोरोना गाइडलाइन के पालन के पुख्‍ता प्रबंध किये गये हैं। ग्रह राज्‍यमंत्री जाडेजा ने बतायाकि 7 जून को अनलॉक-1 के साथ ही सभी मंदिरों को खोल दिया गया था, सोशल डिस्‍टेंसिंग, सैनेटाइजिंग के साथ मंदिर का प्रसाद बंद पैकेट में वितरित करने, मंदिर परिसर में एलईडी पर दर्शन की व्‍यवस्‍था के अलावा दर्शन के लिए ऑनलाइन बुकिंग व टोकन की व्‍यवस्‍था की गई। इस नवरात्रि में गरबा की मंजूरी नहीं दी गई है, 200 की संख्‍या में लोग पूजा व आरती कर सकेंगे तथा प्रसाद बंद पैकेट में ही वितरित कर सकेंगे।

गौरतलब है कि ज्वेलरी कंपनी तनिष्क के विवादित विज्ञापन को लेकर विवाद लगातार बढ़ते जा रहा है। विज्ञापन को लेकर लोगों की भावनाएं आहत हुई है। गौरतलब है कि हाल ही में तनिष्क कंपनी ने नए कलेक्शन 'एकत्वम' को लेकर एक ऐड रिलीज किया था, जिसमें दो परिवारों के बीच अंतरधार्मिक विवाह दिखाया गया था। ट्विटर पर इस विज्ञापन को लेकर #BoycottTanishq ट्रेंड होने लगा था। सोशल मीडिया पर कुछ लोग इसे लव जिहद को प्रोत्साहित करने की साजिश बता रहे हैं और इसे हटाने की भी मांग कर रहे थे।

विवाद बढ़ने पर कंपनी ने हटाया विज्ञापन

हालांकि विज्ञापन को लेकर तनिष्क ने ट्रोल होने के बाद अपना ऐड वापस ले लिया। साथ ही कंपनी ने सफाई देते हुए कहा कि 'एकत्वम अभियान का मकसद, इस चुनौतीपूर्ण समय के दौरान एक साथ आकर जश्न मनाने का है, लेकिन इस विज्ञापन फिल्म पर बहुत उकसाने वाली प्रतिक्रियाएं मिली है, जो फिल्म के उद्देश्य से बिल्कुल विपरीत है। हम बेवजह भावनाओं के इस तरह उत्तेजित होने से दुखी हैं और स्टोरकर्मियों की सुरक्षाा को ध्यान में रखते हुए इस विज्ञापन फिल्म को वापस लेते हैं।

ये दिखाया गया था तनिष्क के विज्ञापन में

इस विज्ञापन में एक गर्भवती महिला की गोदभराई दिखाई गई है, जिसने साड़ी पहन रखी है और उसकी सास उसे गोद भराई की रस्म में लेकर जाती है वीडियो खत्म होने के बाद महिला अपनी सास, जिन्होंने सलवार सूट पहन रखा है और सिर पर दुपट्टा डाल रखा है, उससे पूछती है- मां, लेकिन यह रस्म तो आपके घर में होती भी नहीं न, इसपर सास का जवाब आता है- लेकिन बिटिया को खुश रखने की रस्म तो हर घर में होती है न। इस विज्ञापन पर सोशल मीडिया पर कुछ लोगों ने कहा कि यह ऐड लव जिहाद और फर्जी धर्मनिरपेक्षता को बढ़ावा दे रहा है। विज्ञापन के विरोध में एक यूजर ने लिखा कि 'विज्ञापन में हमेशा मुस्लिम पति और मुस्लिम पत्नी ही क्यों दिखाते हैं, हिंदू पति और मुस्लिम पत्नी क्यों नहीं?'

कंगना रनोट ने भी विज्ञापन का किया विरोध

फिल्म अभिनेत्री कंगना रनोट ने भी इस विज्ञापन का विरोध किया और इसे हिंदू धर्म का अपमान बताया था। वहीं लेखक चेतन भगत ने तनिष्क को सपोर्ट किया है और उन्हें मजबूत रहने की सलाह दी है। ट्वीट में चेतन ने लिखा, ‘प्रिय, तनिष्क, आप पर हमला करने वाले ज्यादातर लोग आपको अफोर्ड नहीं कर सकते। जल्द ही उनके पास नौकरियां नहीं होंगी, इसलिए यकीनन भविष्य में वो तनिष्क से कुछ भी खरीदने के काबिल नहीं होंगे। इसलिए उन लोगों की फिक्र न करें’।

Posted By: Sandeep Chourey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020