जम्मू। मुहर्रम पर कश्मीर में आतंकी हिंसा फैलाने की साजिश में है। इस अलर्ट के बाद जम्मू कश्मीर में सुरक्षा बढ़ा दी गई है। आतंकी जुलूस का लाभ उठाकर आसानी से आतंकी हमले को अंजाम दे सकते हैं। इसके मद्देनजर इस साल श्रीनगर की सड़कों पर जुलूस और ताजिया निकालने की इजाजत नहीं दी गई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक एहतियातन इमामबाड़ा में ताजिया निकालने को कहा गया है।

बता दें कि घाटी से अनुच्छेद 370 को हटाए हुए 37 दिन गुजर चुके हैं। बावजूद इसके अब तक स्थिति पूरी तरह से सामान्य नहीं हुई है। इसके चलते मुहर्रम के मौके पर भी कश्मीर में कड़े सुरक्षा इंतजाम किए हैं।

घाटी में सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए कुछ इलाकों में प्रतिबंध भी लगाए गए हैं। सुरक्षा बलों को अतिरिक्त बल तैनात करने के आदेश जारी किए गए हैं।

कश्मीर में ज्यादातर हिस्सों में कर्फ्यू लगाया गया है। किसी भी तरह के आतंकी हमले और हिंसा से बचने के लिए मुहर्रम पर भी लगाई गई पाबंदिया जारी रहेंगी। इंटेलिजेंस इनपुट मिलने के बाद चौकसी और मजबूत कर दी गई है।

अधिकारियों ने बीते शुक्रवार को दावा किया था कि 91 फीसदी इलाकों में दिन के समय प्रतिबंध लागू नहीं है। इलाके में सिर्फ 11 पुलिस स्टेशन ऐसे हैं जहां प्रतिबंध लगाए गए हैं।