भुवनेश्वर। पिछले साल आए चक्रवाती तूफान फेलिन की तबाही से अभी उबरा भी नहीं कि ओडिशा में हुदहुद तूफान का खतरा मंडराने लगा। मौसम विभाग के अनुसार, कम दबाव का रूप ले चुका यह महातूफान फिलहाल गोपालपुर से 1350 किलोमीटर दूरी पर है। सरकार ने मंगलवार को हाई अलर्ट जारी कर दिया है। स्वतंत्र कमिश्नर ने जानकारी दी है कि संभावित तूफान को देखते हुए 16 जिलों के अधिकारियों को सतर्क रहने का निर्देश दिया गया है।

बालेश्वर, भद्रक, केंद्रापड़ा, पुरी, गंजाम, मयूरभंज, जाजपुर, कटक जिले संकट में पड़ सकते हैं। 12 अक्टूबर को ओडिशा के तट पर इस महातूफान के सक्रिय होने की आशंका है। विशेषज्ञों के अनुसार, ओडिशा में तूफान आना एक प्रकार से निश्चित है। 12 अक्टूबर को दोपहर दो बजे तक संभावित तूफान का केंद्र पारादीप-गोपालपुर के मध्य ओडिशा तट पर पहुंच जाएगा।

बंगाल में भी सतर्कता

बंगाल की खाड़ी में जन्म ले रहे चक्रवाती तूफान "हुदहुद" को लेकर मौसम विभाग ने पश्चिम बंगाल में सतर्कता जारी की है। अलीपुर मौसम कार्यालय ने मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने की हिदायत दी है। कार्यालय के निदेशक गोकुल चंद देवनाथ ने कहा कि बंगाल की खाड़ी में पैदा हुए डिप्रेशन के अगले 48 घंटे में चक्रवाती तूफान का रूप धारण कर लेने का अनुमान है। इसकी वजह से शुक्रवार से मौसम का मिजाज बिगड़ सकता है। डिप्रेशन अभी पोर्ट ब्लेयर से 250 किलोमीटर उत्तर की ओर है।

Posted By: